Tag Archives: हिन्दी

मुक्तक – सुबह जैसे ही आँख खुलती है

सुबह जैसे ही आँख खुलती है
मानो एक शिकायत किया करती है
भोर होते ही क्यू छोड़ देता है मुझको
मेरी तनहाई मुझसे यही सवाल किया करती है

एम के पाण्डेय निल्को

आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद ………!

मुक्तक – तेरे चाहने वालों की बहुत आबादी है

तेरे चाहने वालों की बहुत आबादी है
पर निल्को को कहा लिखने पर पाबंदी है
ये टूटे फूटे मन के भावो को पढ़कर भी
लोग कहते है मधुलेश तेरी भी तो चाँदी है
एम के पाण्डेय निल्को


 

मुक्तक – नज़र निल्को की मैंने शीर्षक ही रख लिया

दिल मे कोई प्रेम रत्न धन रख लिया
उनके लिए लिख , उनका भी मन रख लिया
ऐसी नजरों से घूरते है वो मुझको
की नज़र निल्को की’ मैंने शीर्षक ही रख लिया

एम के पाण्डेय निल्को

मुक्तक – चाँद की चादनी मे नहाती रही

चाँद की चादनी मे नहाती रही

सारी रात मुझे वो जगाती रही

प्यार से ज़रा छु लिया था होठो को उसके

और निल्को की धुन वो अब तक गाती रही

एम के पाण्डेय निल्को


अभिव्यक्ति की आज़ादी पर उन्होंने लगा ही दिया बैन

अभिव्यक्ति की आज़ादी
पर लगा कर बैन
आ ही रहा होगा
उनके दिल को चैन
बोलने पर उन्होंने
भले लगाई पाबन्दी है
पर ‘निल्को’ हम तो
लिखने के भी आदी है
इतनी आसानी से
नहीं छोड़ेगे ‘जानेमन’
क्यू की ये तो है
किसी का दीवानापन
जितना दूर जाना चाहोगी
पास चले आयेगे
तुम्हे दूर से ही चूमकर
घर को लौट आयेगे
सस्ती महँगी जब
बातें तुम करती हो
अनमोल का भी
मोल लगाती हो
पर कई बार तो
तुम भी ब्लाक करके
अपने मन का
भड़ास निकलती हो
############
एम के पाण्डेय निल्को

दिल में कोई प्रेम रतन धन रख लिया

दिल में कोई प्रेम रतन धन रख लिया
उनके लिए भी लिख, उनका भी मन रख दिया
पर ऐसी नज़रो से घूरते है वो मुझको
की ‘नज़र निल्को की’ मैंने शीर्षक रख लिया
एम के पाण्डेय निल्को

« Older Entries