Tag Archives: राजनीति

बनारस में ‘चायवाला’ के सामने ‘पानवाला’

 भाजपा अपने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के ‘चाय वाले’ की पृष्ठभूमि पर ‘चाय पर चर्चा’ आयोजनों के जरिए मतदाताओं को जोड़ने में लगी है। वाराणसी में उनके मुकाबले उतरे सपा उम्मीदवार कैलाश चौरसिया लोगों को उनके पारिवारिक पेशे ‘पान वाले’ को भुनाने में लग गए हैं।

चौरसिया कहते हैं कि मोदी यदि कभी ‘चाय’ बेचते रहे हैं तो वे अपनी ’चाय वाले’ की पृष्ठभूमि को भुना रहे हैं। हमारे पुरखे तो ‘पान’ बेचने के धंधे में रहे है और उसी तर्ज पर हम ‘पान वाला’ अभियान पर निकल पड़े हैं।

उत्तरप्रदेश सरकार में बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री चौरसिया ने कहा, मैंने भी बहुत सालों तक पान बेचा है और पान बेचना तो हमारा पुश्तैनी व्यवसाय है।

उन्होंने कहा कि मोदी जहां एक तरफ लोगों से ‘चाय पर चर्चा’ कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए संवाद कर रहे है। उनकी कोशिश अधिक से अधिक पान वालों से सीधे संवाद स्थापित करने की है। इसलिए भी कि इसमें निजत्व का अहसास होता है।

चौरसिया ने कहा, मैं मोदी की तरह हवा-हवाई में भरोसा नहीं करता, जो भारी धनराशि खर्च करके अपने प्रचार के लिए ‘चाय पर चर्चा’ कर रहे हैं। मेरा मकसद इस तरह के बेकार प्रचार पर धन खर्च करना नहीं है कि खुद को टीवी पर दिखाए और अखबारों में विज्ञापन दें। यह पैसा गरीबों की सहायता में, उनके इलाज में, शादी-विवाह में सहायता के रूप में खर्च किया जाना बेहतर है।

चौरसिया की ‘पान वाला’ पृष्ठभूमि को चुनावी चर्चा में लाने के लिए सपा कार्यकर्ता मशहूर फिल्मी गाने ‘खईके पान बनारस वाला, खुल जाए बंद अक्ल का ताला’, छोरा गंगा किनारे वाला’ गाते घूम रहे हैं और मोदी तथा केजरीवाल के वादों को खोखला बताते हुए लोगों से उनसे सावधान रहने की नसीहत दे रहे हैं।

चौरसिया यह आरोप भी लगा रहे है कि मोदी समर्थकों ने देवी-देवताओं के लिए मशहूर नारों और मंत्रों की तर्ज पर उनके समर्थन में नारे उछालकर देवी-देवताओं का अपमान किया है।

सपा के स्थानीय कार्यकर्ता किशन दीक्षित कहते हैं कि देवी दुर्गा और भगवान शंकर से मोदी की तुलना करके भाजपा कार्यकर्ताओं ने धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है।

उन्होंने कहा, हम भाजपाइयों के विपरीत ‘खईके पान बनारस वाला..’ गाने के साथ आम लोगों और पान वालों के बीच जाकर उनका समर्थन मांग रहे है। साथ ही लोगों को यह भी समझा रहे हैं कि हमारा उम्मीदवार इसी शहर का है और यहीं रहेगा, जबकि मोदी या केजरीवाल चुनाव बाद यहां से चले जाएंगे।

चौरसिया कहते हैं कि बनारस अपने बनारसी पान के लिए दुनिया में मशहूर है और बनारसी पान वाले के साथ चाय वाले का क्या मुकाबला। (साभार – वेब दुनिया )
आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद ………!

योगेश पाण्डेय 

                                                                                                

कुर्सी का प्रमोशन

नमस्कार भाई लोग ,

कई दिनों बाद आया हूँ
नई  बात सुनाता हूँ 
अभी तक हर जगह 
कर्मचारी का प्रमोशन होता था 
लेकिन इस कलयुग में तो 
कुर्सी का प्रमोशन होता है 
माह अक्तूबर सन २०१२ 
जिस कुर्सी पर मैं बैठा था 
आज वह आखे दिखा रही 
रह रह कर बाते बना रही 
साथ उसका मेज दे रही 
जले पर नमक वह छिड़क रही ……..
करना था तो मेरा प्रमोशन
पर कुर्सी मेज का हो गया 
रह गया मैं वही का वही 
और लोग कहे सही है सही 
लेकिन एक बात सुन लो भाई 
यहाँ नहीं कही और सही ……………
**********
एम के पाण्डेय “निल्को”

भारतवासी सरबजीत सिंह की दुखद मृत्यु

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतवासी सरबजीत सिंह की दुखद मृत्यु पर समस्त ब्लॉग  परिवार शोक व्यक्त करता है ।
ये कटु सत्य आज भी मुझे झकझोर रहा है| जानता हूँ कि यही सत्य है परन्तु हृदय स्वीकार करने को तैयार नहीं है भगवान् सरबजीत की आत्मा को शांति प्रदान करे और उनका दिवंगत शरीर तुरंत भारत लाया जाये और उनके परिवार को सौंपा जाये बस यही अपील करना चाहता हूँ जिससे कम से कम उनकी अंतिम क्रिया तो सही प्रकार से पूरी की जा सके । जो अपने जीते जी कभी शांति नहीं देख सके वो मृत्युपरांत तो कम से कम सुकून हासिल कर सकें ।  उम्मीद है सरकार इस बारे में कुछ ठोस कदम ज़रूर उठाएगी । 
सरबजीत की दुखद और दर्दनाक मौत के लिए पाकिस्तानी सरकार तो ज़िम्मेदार है ही किन्तु उससे ज्यादा ज़िम्मेदार भारत की सरकार है जिसके घिनौने चेहरे का पर्दाफाश सरबजीत की इस हालत से हो गया है । लचर रवैया और गैर जिम्मेदारी का जो प्रमाण इस निर्लज्ज सरकार ने सरबजीत के मामले में प्रस्तुत किया है वह बेहद निंदनीय है । अगर इस मामले में पहले ही कुछ पुख्ता कदम उठा लिए गए होते तो शायद आज सरबजीत अपने परिवार के साथ होते । सरबजीत के साथ हुआ तो किसी से छिपा नहीं है परन्तु अब उनकी मौत पर अनेकों सवालिया निशाँ उभर कर आ रहे हैं । अब देखना यह है के इन सवालों के जवाब देने सरकार की तरफ से कौन आगे आता है ।

गणतंत्र दिवस के अवसर पर समस्त देशवासियों को ढेर सारी शुभकामनाएं !

समस्त देशवासियों को गणतंत्र दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं। गणतंत्र दिवस के मौके पर हमें देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने और भारत को विश्व का सिरमौर बनाने का संकल्प लेना चाहिए।
देश के 64वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएं।
देश की तरक्की के लिए हम लगातार अपना श्रेष्ठ दें, यही कामना।
जय हिन्‍द जय हिन्‍द की सेना
आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें,
 और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें!
 धन्यवाद ………! 
आपकी प्रतीक्षा में ….

 VMW Team

 The Team With Valuable Multipurpose Work

 vmwteam@live.com 
 +91-9044412226;
+91-9044412223 
+91-9024589902;
+91-9261545777

भारत के महान संत स्वामी विवेकानंद की आज जन्मतिथि है

भारत के महान संत स्वामी विवेकानंद की आज जन्मतिथि है. दुनियां भर के युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत रहे स्वामी विवेकानंद आज भी बहुत से लोगों के आदर्श हैं. उनके जन्मदिवस पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करें.
 अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें |
 vmwteam@live.com 
+91-9024589902 
+91-9044412246

अत्याचारी ने आज पुनः ललकारा,………..

अटल बिहारी बाजपेयी जी 
Siddharth Hinduveer

अत्याचारी ने आज पुनः ललकारा,………..

अत्याचारी ने आज पुनः ललकारा, 
अन्यायी का चलता है अमन दुधारा, 
आंखो के आगे सत्य मिटा जाता है, 
भारत माता का शीश कटा जाता है !
      (1)    क्या पुनः देश टुकड़ो में बंट जाएगा ? 
           क्या सबका शोणित पानी बन जाएगा?
    कब तक दानव की  माया  चलने  देंगे  ? कब तक  भस्मासुर  को  हम  छलने  देंगे ?
कब   तक   जम्मू  को  हम  जलने  देंगे ? 
                          कब  तक  जुल्मो  की  मदिरा ठलने देंगे ?
चुपचाप  सहेंगे  कब  तक  लाठी  गोली ?  कब  तक  खेलेंगे  दुश्मन  खून  से  होली ?
प्रह्लाद-परीक्षा  की  बेला  अब आई ; होलिका  बनी  देखो  अब्दुल्ला शाही……………….!!!
(2)   माँ बहनो का अपमान सहेंगे कब तक ?…………………..?
माँ बहनो का अपमान सहेंगे कब तक? भोले पांडव चुपचाप रहेंगे कब तक ?
आखिर सहने की भी सीमा होती है, सागर के उर मे भी ज्वाला सोती है,
मलयानिल कभी बवंडर बन ही जाता,भोले शिव का तीसरा नेत्र खुल जाता,
(3)  जिनको जन धन से मोह , प्राण से ममता…………..
जिनको जन धन से मोह ,प्राण से ममता ;
वे दूर रहे अब पांचजन्य है बजता,
जो दुमुख,युद्ध कायर है,
रणभेरी सुनकर कंपित जिनके अंतर है,
वे दूर रहे चूड़िया पहन कर बेठें,
बहनें थूकें माताएँ कान उमेठें,……
जो मानसिंह के बल से सम्मुख आयें ,
फिर एक बार घर मे ही आग लगाएँ,
पर अन्यायी की लंका अब न रहेगी,
आने वाली सन्तानें यूं न कहेंगी ,
पुत्रों के रहते कटा जननी का माथा ,
चुप रहे देखते अन्यायों की गाथा,……
(4)   अब शोणित से इतिहास नया लिखना है……….
अब शोणित से इतिहास नया लिखना है, बलिपथ पर निर्भय पाँव आज रखना है,
आओ खंडित भारत के वासी आओ,कश्मीर बुलाता त्याग उदासी आओ,
लो सुनो शहीदो की पुकार आती है, अत्याचारी की सत्ता ठर्राती………….;
लो सुनो शहीदो की पुकार आती है, अत्याचारी की सत्ता ठर्राती,
उजड़े सुहाग की लाली तुम्हें बुलाती , अधजली चिता मतवाली तुम्हें बुलाती,
अस्थियाँ शहीदो की देती आमंत्रण, बलिवेदी पर कर दों सर्वस्व समर्पण,
कारागारों की दीवारों का न्योता, कैसी दुर्बलता अब कैसा समझौता,
हाथो मे लेकर प्राण चलो मतवालों,सीने मे लेकर आग चलो प्रणवालों,
जो कदम बढ़ा अब पीछे नहीं हटेगा, बच्चा बच्चा हंस हंस कर मरे मिटेगा,
बरसो के बाद आज बलि का दिन आया,अन्याय-न्याय का चिर संघर्षण छाया,
फिर एक बार दिल्ली की किस्मत जागी, जनता जागी अपमानित अस्मत जागी,
देखो दिल्ली की कीर्ति न कम हो जाये, कण कण पर फिर बलि की छाया छा जाये…………… 
ये  बाजपेयी जी की पंक्तिया हमारे VMW Team के सिद्धार्थ हिंदुवीर की तरफ से …….
अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें |
 vmwteam@live.com +91-9024589902 +91-9044412246
+91-7737077617

CWG, 2G, कोयला और न जाने कितने जी…..जा……जी

 

एक बार की बात है,
वोट देते ही पड़ गई लात है|
थोड़े देर सकपकाने के बाद,
बोले निल्को भाई
वोट देने का क्या यही परिणाम है ?
मैंने कहा भाई,
तुम तो बहुत कमात हो
लेकिन मनमोहन सब खाए जात है
फिर वोट कांग्रेस को देकर
क्या संदेश देत जात हो ।
मैंने कहा सही है भाई,
लेकिन यह मौन का
क्या राज है ?
अरे जनाब,
CWG,2G, कोयला
और न जाने
कितने जी…..जा……जी
तो इनके पास है।
खाने के वक्त बोलना नहीं चाहिए,
और पचाने के लिए विपक्ष को
जगाना नहीं चाहिए ।
इतने मे ही भाई नीलेश आए,
और बोले की
ये नोट मेरे पास
आया था,
देखने मे सफ़ेद पर अंदर से
काला था,
आप की बात सुनकर
समझ आया यह तो कांग्रेस का
छापा था,
गलती से यह मेरे पास
आया था ।

अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें | 
vmwteam@live.com +91-9024589902 
+91-9044412246

॥ गगन में लहरता है भगवा हमारा ॥

त्रिपुरेन्द्र ओझा
गगन मे लहरता है भगवा हमारा ।
घिरे घोर घन दासताँ के भयंकर
गवाँ बैठे सर्वस्व आपस में लडकर
बुझे दीप घर-घर हुआ शून्य अंबर
निराशा निशा ने जो डेरा जमाया
ये जयचंद के द्रोह का दुष्ट फल है
जो अब तक अंधेरा सबेरा न आया
मगर घोर तम मे पराजय के गम में विजय की विभा ले
अंधेरे गगन में उषा के वसन दुष्मनो के नयन में
चमकता रहा पूज्य भगवा हमारा॥
भगावा है पद्मिनी के जौहर की ज्वाला
मिटाती अमावस लुटाती उजाला
नया एक इतिहास क्या रच न डाला
चिता एक जलने हजारों खडी थी
पुरुष तो मिटे नारियाँ सब हवन की
समिध बन ननल के पगों पर चढी थी
मगर जौहरों में घिरे कोहरो में
धुएँ के घनो में कि बलि के क्षणों में
धधकता रहा पूज्य भगवा हमारा ॥
मिटे देवाता मिट गए शुभ्र मंदिर
लुटी देवियाँ लुट गए सब नगर घर
स्वयं फूट की अग्नि में घर जला कर
पुरस्कार हाथों में लोंहे की कडियाँ
कपूतों की माता खडी आज भी है
भरें अपनी आंखो में आंसू की लडियाँ
मगर दासताँ के भयानक भँवर में पराजय समर में
अखीरी क्षणों तक शुभाशा बंधाता कि इच्छा जगाता
कि सब कुछ लुटाकर ही सब कुछ दिलाने
बुलाता रहा प्राण भगवा हमारा॥
कभी थे अकेले हुए आज इतने
नही तब डरे तो भला अब डरेंगे
विरोधों के सागर में चट्टान है हम
जो टकराएंगे मौत अपनी मरेंगे
लिया हाथ में ध्वज कभी न झुकेगा
कदम बढ रहा है कभी न रुकेगा
न सूरज के सम्मुख अंधेरा टिकेगा
निडर है सभी हम अमर है सभी हम
के सर पर हमारे वरदहस्त करता
गगन में लहरता है भगवा हमारा॥
 **********************
प्रस्तुति : त्रिपुरेन्द्र ओझा 
अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें | 
vmwteam@live.com
 +91-9024589902 +91-9044412246

हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

एम. के. पाण्डेय “निल्को”

मै शंकर का वह क्रोधानल कर सकता जगती क्षार क्षार

डमरू की वह प्रलयध्वनि हूं जिसमे नचता भीषण संहार
रणचंडी की अतृप्त प्यास मै दुर्गा का उन्मत्त हास
मै यम की प्रलयंकर पुकार जलते मरघट का धुँवाधार
फिर अंतरतम की ज्वाला से जगती मे आग लगा दूं मै
यदि धधक उठे जल थल अंबर जड चेतन तो कैसा विस्मय
अटल बिहारी वाजपेयी

हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै आज पुरुष निर्भयता का वरदान लिये आया भूपर
पय पीकर सब मरते आए मै अमर हुवा लो विष पीकर
अधरोंकी प्यास बुझाई है मैने पीकर वह आग प्रखर
हो जाती दुनिया भस्मसात जिसको पल भर मे ही छूकर
भय से व्याकुल फिर दुनिया ने प्रारंभ किया मेरा पूजन
मै नर नारायण नीलकण्ठ बन गया न इसमे कुछ संशय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै अखिल विश्व का गुरु महान देता विद्या का अमर दान
मैने दिखलाया मुक्तिमार्ग मैने सिखलाया ब्रह्म ज्ञान
मेरे वेदों का ज्ञान अमर मेरे वेदों की ज्योति प्रखर
मानव के मन का अंधकार क्या कभी सामने सकठका सेहर
मेरा स्वर्णभ मे गेहर गेहेर सागर के जल मे चेहेर चेहेर
इस कोने से उस कोने तक कर सकता जगती सौरभ मै
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै तेजःपुन्ज तम लीन जगत मे फैलाया मैने प्रकाश
जगती का रच करके विनाश कब चाहा है निज का विकास
शरणागत की रक्षा की है मैने अपना जीवन देकर
विश्वास नही यदि आता तो साक्षी है इतिहास अमर
यदि आज देहलि के खण्डहर सदियोंकी निद्रा से जगकर
गुंजार उठे उनके स्वर से हिन्दु की जय तो क्या विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

दुनिया के वीराने पथ पर जब जब नर ने खाई ठोकर
दो आँसू शेष बचा पाया जब जब मानव सब कुछ खोकर
मै आया तभि द्रवित होकर मै आया ज्ञान दीप लेकर
भूला भटका मानव पथ पर चल निकला सोते से जगकर
पथ के आवर्तोंसे थककर जो बैठ गया आधे पथ पर
उस नर को राह दिखाना ही मेरा सदैव का दृढनिश्चय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मैने छाती का लहु पिला पाले विदेश के सुजित लाल
मुझको मानव मे भेद नही मेरा अन्तःस्थल वर विशाल
जग से ठुकराए लोगोंको लो मेरे घर का खुला द्वार
अपना सब कुछ हूं लुटा चुका पर अक्षय है धनागार
मेरा हीरा पाकर ज्योतित परकीयोंका वह राज मुकुट
यदि इन चरणों पर झुक जाए कल वह किरिट तो क्या विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै वीरपुत्र मेरि जननी के जगती मे जौहर अपार
अकबर के पुत्रोंसे पूछो क्या याद उन्हे मीना बझार
क्या याद उन्हे चित्तोड दुर्ग मे जलनेवाली आग प्रखर
जब हाय सहस्त्रो माताए तिल तिल कर जल कर हो गई अमर
वह बुझनेवाली आग नही रग रग मे उसे समाए हूं
यदि कभि अचानक फूट पडे विप्लव लेकर तो क्या विस्मय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

होकर स्वतन्त्र मैने कब चाहा है कर लूं सब को गुलाम
मैने तो सदा सिखाया है करना अपने मन को गुलाम
गोपाल राम के नामोंपर कब मैने अत्याचार किया
कब दुनिया को हिन्दु करने घर घर मे नरसंहार किया
कोई बतलाए काबुल मे जाकर कितनी मस्जिद तोडी
भूभाग नही शत शत मानव के हृदय जीतने का निश्चय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥

मै एक बिन्दु परिपूर्ण सिन्धु है यह मेरा हिन्दु समाज
मेरा इसका संबन्ध अमर मै व्यक्ति और यह है समाज
इससे मैने पाया तन मन इससे मैने पाया जीवन
मेरा तो बस कर्तव्य यही कर दू सब कुछ इसके अर्पण
मै तो समाज की थाति हूं मै तो समाज का हूं सेवक
मै तो समष्टि के लिए व्यष्टि का कर सकता बलिदान अभय
हिन्दु तन मन हिन्दु जीवन रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥
******************
प्रस्तुति : एम. के. पाण्डेय “निल्को ”

 अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें |
 vmwteam@live.com 
+91-9024589902 +91-9044412246

तेरी औकात भी है मेरी तरफ देखने की?

दानदाता ने एक रूपए का सिक्का फेंका तो वह बजाए भिखारी के डिब्बे में गिरने के सड़क पर जा गिरा। भिखारी ने दानदाता को दुआएं देते हुए सिक्का उठाकर डिब्बे में डाल लिया। तभी कहीं से हंसने की आवाज आई, खिलखिलाकर हंसने की! एक रूपए के सिक्के ने क्रोध से चौंककर आसपास देखा तो उसे पास की दुकान के शानदार शो-केस में रखा पांच सौ रूपए का नोट दिखा, खिलखिलाकर हंसता हुआ!  ‘गुस्से से क्या देख रहा है।’ पांच सौ रूपए का नोट गर्वोक्ति से बोला ‘तेरी औकात भी है मेरी तरफ देखने की? और जहां तक हंसने का सवाल है तो भिखारी को दी जाने वाली चीज सड़क पर गिर जाए तो हंसी आ ही जाती है।’
‘कोई बात नहीं, हंस लो, खूब हंस लो’ एक रूपए के सिक्के ने शांति से जवाब दिया ‘पर जरा बाद में अपने बारे में भी सोच लेना। हमें पाकर भिखारी दाता को दुआएं ही देता है। हमें या दाता को शक की नजर से नहीं देखता, हमारी असलियत नहीं परखता।’

देश का अगला राष्ट्रपति कौन होगा?

देशकाअगलाराष्ट्रपतिकौनहोगा? इससवालकाजवाबअभीस्पष् नहीं है। 19 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले चुनाव के लिए नामांकन इसी महीने होना है। लेकिन किसी पार्टी ने उम्मीदवारी को लेकर पत्ते नहीं खोले हैं। केवल बयानबाजी चल रही है। इनके आधार पर कुछ नाम दौड़ में आते लग रहे हैं। ऐसे में हम आपसे आपकी पंसद पूछ रहे हैं। 
 
अब तक जो चार प्रमुख नामरायसीना हिल्सकी रेस में सामने रहे हैं, उनके सकारात्मकनकारात्मक पहलू बताते हुए हम आपसे आपकी पसंद जानना चाहेंगे। अभी केंद्रीय वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम और इन्फोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति के नाम चर्चा में हैं।प्रणब, हामिद, कलाम या मूर्ति में से कौन आपकी नज़र में राष्ट्रपति के लिए सबसे योग्य उम्मीदवार है  और क्यों? अगर आपकी नज़र में इन नामों से अलग कोई नाम है, तो भी बताएं। नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी पसंद और उसकी वजह लिखकर सबमिट करें। 
 —
VMW Team
The Team With Valuable Multipurpose Work

वेटिंग लिस्ट की जगह बर्थ देने की गारंटी

रेलवे रिजर्वेशन के बावजूद सीट कंफर्म न होने वालों के लिए एक राहत भरी खबर है। रेल मंत्रालय 2012-13 के बजट में यात्रियों को कंफर्म टिकट की गारंटी दे सकता है। रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने लंबी वेटिंग लिस्ट की जगह बर्थ देने की गारंटी वाला एक आइडिया रेल बजट कमेटी के सामने रखा है। इसमें लंबी दूरी वाली ट्रेनों में वेटिंग टिकट पर यात्रा करने वाले यात्रियों पर खास फोकस रहेगा। त्रिवेदी ने हाल ही हुई रेलवे बोर्ड बैठक में यह आईडिया दिया। प्रस्तावित आइडिया के मुताबिक, किसी भी मार्ग पर तय सीटों से ज्यादा बुकिंग और लंबी वेटिंग लिस्ट होने पर एक अतिरिक्त ट्रेन चलाई जाएगी। इसमें वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों की सीट कंफर्म हो सकेगी।
त्रिवेदी ने आईडिया में कहा, हर रिजर्वेशन टिकट वाले यात्री को गारंटेड कंफर्म बर्थ मुहैया कराने की नीति पर मंत्रालय काफी सजग है। हालांकि जरूरत पड़ने पर इस सुविधा के लिए अतिरिक्त चार्ज लगाया जा सकता है। सूत्रों ने बताया, किसी भी ट्रेन में तकरीबन 700 से अधिक वेटिंग लिस्ट होने पर प्रस्तावित आइडिया में उसी रूट पर एक और ट्रेन चलाने की बात की गई है। हालांकि कोच और इंजन की सीमित संख्या के चलते इस पर पूरी तरह अमल करना संभव नहीं लग रहा है। फिर भी कुछ रास्तों के लिए ऐसी सुविधा चालू की जा सकती है।
दिलचस्प है कि रेल मंत्री के इस आइडिया को रेलवे बोर्ड के अधिकारियों ने काफी सराहा है। इनमें पॉलिसी बनाने वाले अधिकारी भी शामिल हैं।

सलमान का मुंह बंद करवाओ महामहिम

नोटिस और फटकार के बावजूद भी केंद्रीय कानून मंत्री की मुसलमानों के लिए आरक्षण पर बयानबाजी जारी रहने पर अब चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति से गुहार लगाई है। चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर सलमान खुर्शीद के मामले में हस्तक्षेप का आग्रह किया है।
अपने पत्र में चुनाव आयोग ने कहा है कि नोटिस और फटकार लगाए जाने के बावजूद कानून मंत्री की बयानबाजी जारी है ऐसे में मामले की गंभीरता को देखते हुए राष्ट्रपति को दखल देना चाहिए।
गौरतलब है कि मुस्लिम आरक्षण पर दिए गए बयान को लेकर चुनाव आयोग ने सलमान खुर्शीद को फटकार लगाई थी लेकिन इसके बावजूद भी सलमान खुर्शीद की इस मुद्दे पर बयानबाजी जारी रही।

सलमान ने अपने ताजा बयान में कहा है कि वो मुसलमानों को आरक्षण दिलवाने के लिए फांसी पर चढ़ने को भी तैयार हैं। सलमान  ने चुनाव आयोग को चुनौती देते हुए यह भी कहा है कि चुनाव आयोग रहे न रहे लेकिन मुसलमानों को आरक्षण मिलकर रहेगा।
सलमान के इस बयान के बाद ही चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर कानून मंत्री सलमान खुर्शीद की शिकायत की है। पत्र में राष्ट्रपति से हस्तक्षेप करने के लिए कहा है।
सलमान खुर्शीद के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा प्रवक्ता ने मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कानून मंत्री डंके की चोट पर गैर कानूनी काम कर रहे हैं। अब प्रधानमंत्री को सीधे तौर पर इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए।

पति-पत्री ही एक दूसरे को चुनावी मैदान में चुनौती दे रहे हैं।

कहते हैं कि सियासत में रिश्ते बेमानी हो जाते हैं। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में इसकी मिसाल सिद्धार्थनगर जिले में देखने को मिल रही है। यहां पति-पत्री ही एक दूसरे को चुनावी मैदान में चुनौती दे रहे हैं।VMW Team के टी.के.ओझा “निशु” की एक रिपोर्ट…

सिद्धार्थनगर जिले की शोहरतगढ़ विधानसभा सीट से रविंद्र चौधरी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस के टिकट पर पिछला चुनाव जीत चुके रविंद्र का मुकाबला इस बार अपनी ही पत्री साधना चौधरी से है, जो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार हैं। रविंद्र पूर्व में दो बार भाजपा के टिकट से भी विधायक रह चुके हैं।
तब साधना उनके साथ चुनाव प्रचार में अहम भूमिका अदा करती थीं, लेकिन करीब दस वर्षों से दोनों अलग-अलग रहते हैं। साधना ने कहा कि वह भाजपा उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस, सपा और बसपा के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं। वैसे भी चुनावी जंग, दलों के बीच होती है, व्यक्तियों के बीच नहीं।
एक बार जिला पंचायत चुनाव लड़ चुकीं साधना से जब पति से रिश्तों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस बारे में बात न करने का आग्रह करते हुए कहा कि वह विकास को मुद्दा बनाकर चुनाव लड़ रही हैं, और इस बार शोहरतगंढ़ की जनता भाजपा को जिताने का मन बना चुकी है, क्योंकि वह समझ चुकी है कि भाजपा शासन में ही पिछड़ों का हक सुरक्षित रह सकता है।
शोहरतगढ़ कुर्मी बाहुल्य सीट है। इसलिए भाजपा ने सियासी समीकरणों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस के कुर्मी उम्मीदवार की पत्री को ही मैदान में उतार दिया है। पति-पत्री की जंग ने जहां सीट का चुनावी समीकरण बदल दिया है, वहीं दूसरे दल इसका फायदा लेने की फिराक में हैं।
अन्य दलों को लगता है कि कुर्मी मतदाताओं के दम पर जीत दर्ज कराने वाले रविंद्र चौधरी के वोट बैंक में उनकी पत्री व भाजपा उम्मीदवार सेंध लगा सकती है, और इसका फायदा उन्हें मिल सकता है। इस सीट पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने मुस्लिम उम्मीदवार मुमताज अहमद और समाजवादी पार्टी(सपा) ने लाल मुन्नी सिंह को मैदान में उतारा है। शोहरतगढ़ विधानसभा सीट पर पहले चरण में बुधवार को मतदान होना है।

राहुल गांधी को प्रधानममंत्री बनाने की मांग

पार्टी के राजनीति में कब क्या हो जाए, कहना मुश्किल होता है। अब यही देखिए कि मुख्य विपक्षी दल बीजेपी ने राहुल गांधी को प्रधानममंत्री बनाने की मांग कर दी। अब तक यह मांग कांग्रेसी करते थे। हालांकि पार्टी की दलील यह है कि इससे साफ हो जाएगा कि राहुल गांधी में कितना दम है। कांग्रेस ने बिना देर किए इस बात का एलान कर दिया कि यह मांग बीजेपी की मानसिक पराजय का संकेत है। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने रविवार को संवाददाताओं से बातचीत के दौरान एक सवाल के जवाब में कहा, ‘यूपीए सरकार के अभी 2 साल बाकी हैं। इसमें राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बना देना चाहिए ताकि देश की जनता भी देख ले कि उनमें देश की समस्याओं की कितनी समझ और उनके समाधान की कितनी क्षमता है।’ उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनने के लिए सिर्फ इतना ही तो कहना है कि ‘मनमोहन सिंह जी आप कुर्सी से उतरिए, हम बैठेंगे।’ यह सवाल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष और केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार की इस टिप्पणी के बारे में पूछा गया था, जिसमें पवार ने कहा है कि राहुल गांधी को उत्तर प्रदेश में चुनाव अभियान की कमान सौंपकर कांग्रेस ने एक जुआ खेला है, क्योंकि अगर कांग्रेस अच्छा नहीं कर पाई तो सारी जिम्मेदारी उनके सिर जाएगी। पवार ने यह भी कहा था कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का चुनाव परिणाम अच्छा भी हो तो भी राहुल गांधी को तुरंत प्रधानमंत्री पद के लिए प्रोजेक्ट नहीं किया जा सकता।

***********
अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें | 
vmwteam@live.com 
+91-9024589902:
+91-9044412246,27,12

एह पर करियो मतदान

चुनाव आयोग बहुत कडाई कईले बा . प्रत्यासी भी बहुत चालाकी देखावत हवे . गाव गाव लक्जरी गाडी  घूमत हई. कवनो साहब शुब्बा राही में  चेकिंग – ओकिंग करत में मिळत  हवे त इहे जवाब देत हवे – हम बरदेखुआ हईं . फलाने की घरे जात हई . अब फलाने की दुआरी तिल्कहरून  के भीड़ देख के अटिदार- पटीदार, पास -पड़ोस के लोग बटुरा जाता . फलाने भी तिल्कहरून के खूब आव -भगत करत हवे . मर -मिठाई , नर -नमकीन , अकौड़ी- पकौड़ी चापि के ऊपर से चाह-चुह पी- पा के जब राहि धरे जात हवे त घर की मुखिया की हाथ में हज़ार – दू हज़ार थमा के कान में धीरे से कहत हवे . अरे भईया ! हम साचो के तिलकहरू न हई, हम फलाने के समर्थक हई आ वोट मांगे घूमत हई . यह चिन्ह पर बटन दबा दिहा . दरअसल बात इ बा की यह  बार जैसन  चनाव आयोग के  खौफ पहले कभी न देखे के मिलल रहे । अधिकारी हों, अथवा कर्मचारी या प्रत्याशी सजो  लोग  चुनाव आयोग की डंडे के खौफ से सहम गईल बा । चुनाव में  जनता के बीच जा के   अपनी प्रत्याशिता क प्रचार कईल  उनकी मजबूरी बा , सो तरह -तरह के हथ कंडा अपनावल जता ,चुनाव आयोग क फरमान बा  कि तीन गाडी से अधिका वाहन न चली , सो लोग तिलकहरू बनी के घूमत हवे , अपन  प्रचार करत हवे । इ सब आयोग के छकावे के जोगार ह।  हमरी देवरिया जिला की बरहज में त अयिसन तिल्कहरून के बाढ़ आ गईल बा , बिना बिआहे तय कईले खूब गोड़ लगायी , राह धराई मिळत बा . एगो प्रत्यासी त साठ गो  बेलोरो आ इस्कर्पियो उतार देले हवे , कही बरछा , त कही बर देखाई . कही बर छेकाई . सब फर्जी चलता ये भाई . अब यह हालत पर एगो कविता सुन ली –

गाव गाव तिलकहरू घुमे  , खूब करे जलपान / 
जाये की बेरी कान में कहले, एह पर करियो मतदान/
हाथ जोड़ के नगद थम्हावे, बार बार प्रणाम /
अबकी रउरा न बिसरायिब,इहे  ह मोर निशान/
आफत कईले बा आयोगवा, बहुत बा घामासान / 
येही बहाने प्रचार चलत बा, हमरो साझ -बिहान / 
बरहज में मतदाता मगन बा, खूब मिळत बा दाम /
खीच के सेवा तिल्कहरून के, अपनों मान-सम्मान / 
अच्छा लगने पर ब्लॉग समर्थक बनकर मेरा उत्साहवर्द्धन एवं मार्गदर्शन करें | 
vmwteam@live.com 
+91-9024589902:
+91-9044412246,27,12
« Older Entries Recent Entries »