Tag Archives: पर्व-त्यौहार

होलिका दहन – जश्न का पर्व

कहते हैं होलिका दहन के दिन तीन चीजों का होना काफी शुभ माना जाता है. ये तीन चीजें हैं प्रदोण काल का होना, पुर्णिमा तिथि का होना और भद्रा ना लगा होना. इस साल ये तीनों संयोग बन रहे है. जिससे इस साल होलिका दहन बहुत शुभ मानी जा रही है . फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा के शुभ मुहूर्त में आज होलिका दहन और पूजन किया जाएगा। इसलिए इस शुभ मुहूर्त में पूजा करेंगे तो सौभाग्य मिलेगा।

आज शाम होलिका दहन किया जाएगा और कल रंगों के साथ इस पर्व का जश्न मनाया जाएगा.

दशहरा – by TRIPURENDRA OJHA

                
आज दशहरा है , मै अपने घर से हजार किलोमीटर दूर जॉब करता हूँ जिस वजह से हर दशहरा ,दीपावली और अन्य त्यौहार मै अपने घर वालों के साथ बिताऊं ऐसा संभव नही हो पाता लेकिन आने वाला हर त्यौहार अपने परिवार के साथ बताये गये पलों की याद से रंगीन जरूर हो जाता है ! जरा सी स्मृति की भंगिमाएं चेहरे पर हजार भाव एक साथ नृत्य कराने लगतीं हैं ! यकीनन बड़ा ही शानदार अनुभव होता है जब आपको चाहने वाला , आपके साथ खुशियों के पल बाँट रहा होता है और आप का उसके साथ बिताया गया एक एक क्षण अपने आप में बड़ा ही अनमोल और ह्रदय को सुकून देने वाला होता है जो शायद आज जिन्दगी के भागमभाग , और खुशियाँ खरीदने चक्कर में खो सा रहा है !
भला हो तमाम सोशल साइट्स का जिनकी वजह से आज हम एक दुसरे को देख सकते हैं,सुन सकते है, बात कर सकते है एक छद्म मुलाकात कर सकते है सबसे बड़ी बात एक साथ रह सकते हैं ,कितने महान थे वो लोग जो महीनों महीनो चिठ्ठियों का इन्तेजार किया करते थे और और फिर उन चिठ्ठियों का जवाब आने का सालों..इन्तेजार |
वैसे तो हमारा बचपन बहुत नवाबों जैसा नहीं गुजरा लेकिन उस उम्र में भी अपनी अमीरी कुछ कम नहीं थी ,हम मेला जाने के लिए इतने दीवाने हुआ करते थे कि पुराने मंदिर के पास गिनी चुनी लकठा ,गट्टा,बताशा , मूंगफली,बेर जलेबी कि टोकरियों को देखकर वो आनंद आता था जो आज macD,शौपिंग मॉल और पीवीआर में भी नहीं आता ! सामान खरीदने के चक्कर में जलेबियाँ चखना , बेर चखना , मूंगफली ऐसे ही खा लेते थे कि कुछ खरीदने कि जरूरत ही नहीं पड़ती और पेट भर जाता और साथ में ले गये तीनो रुपयों में से डेढ़ रूपये वापस भी ले आते , एक अठन्नी खो जाने का इतना टेंशन होता था कि एक एक घंटे उसको खोजते ही रहते !
उम्र बढ़ने के साथ साथ मेले के प्रति दीवानगी बनी रही, दशहरा में हमारे यहाँ दुर्गा जी कि मूर्तियाँ रखीं जाती है हर गली मुहल्लों नुक्कड़ों कस्बों और शहरों में मूर्तियों के साथ तेज आवाज में बजता लाउडस्पीकर ह्रदय में जो उमंग कि कम्पन पैदा करता था उसकी अनुभूति शब्दों में वर्णित नहीं कि जा सकती , मन अन्दर ही अन्दर हिलकोरें लेने लगता  और अगर कोई मूर्ती विशाल दिख जाती तो बाप रे …. अब तो हम यहाँ से एक घंटा से पहले हटने वाले नहीं ..एकटक बिना पलक झपकाए तब तक माँ दुर्गा को निहारते रहेंगे जब तक कि महिषासुर के एडी को काटने वाले सांप कि जीभ तक न दिख जाए !
वास्तव में बड़ा आनंदित करने वाला होता था मेला , तरह तरह के खिलौने ,तरह तरह के खाने वाले व्यंजन, तरह तरह की  मूर्तियाँ मानो लगता था माँ दुर्गा के साथ साथ पूरा स्वर्ग उतर आया हो !
हजारो ख्वाहिशों और उत्कंठाओं को दबाये हुए जब हम बड़े हुए तो वो हर चीज , हर शौक ,हर मजे करने कि सोची जिसके लिए बचपन में माँ कि अनुमति, मन कि अनुमति या फिर जेब कि अनुमति नही मिलीं थी ! बड़े भाई साहब डिफेन्स ट्रेनिंग कर के ६ महीने बाद घर आये हुए थे जिन्होंने समय से कुछ पहले ही घर कि सारी जिम्मेदारियों का बोझ अपने कन्धों पर उठा लिया था और उम्र से पहले ही बड़े हो गये थे सो कहने का तात्पर्य ये है कि अभी वो उम्र थी जिनमे बचपना और परिपक्वता के मसाले से जिन्दगी कि नींव और वो दीवार खड़ी हो रही होती है जिसपे जिन्दगी तमाम परीक्षाओ कि छत पड़नी होती है !
खैर हमने दशहरा मेला घूमने जाने को सोचा और वो भी यहाँ वहां नहीं , सीधे शहर कि तरफ जो लगभग 100 किलोमीटर पड़ता था जो ट्रेन की सुविधा होने कि वजह से 1.5 घंटे मालूम नही पड़ता था , उमंग में भरे दोनों भाई माता जी की आसान सी स्वीकृति पाकर( जो कि पहले बड़ा ही दुर्लभ हुआ करती थी ) निकल पड़े दशहरा मनाने |
ट्रेन का टाइम हो रहा था दोनों लोग जल्दी जल्दी तैयार हो रहे थे ,मेरा कपडा कहाँ है मेरी चड्डी मेरा तौलिया , अम्मा रूमाल है क्या ..अब बड़े हो गये थे न सो रुमाल रखने कि आदत डालनी अच्छी बात है जो आज तक नही पड़ी अलग बात है , जैसे तैसे तैयार होकर हम लोग बाहर निकले ,भैया ने अपनी पसंदीदा पेंट शर्ट पहना और मैंने अपना , भड़भडा के साइकिल निकाला और सवार होकर भागे | हमारी प्यारी साइकिल जो जिसने हम दोनों भाइयों कि  शिक्षा पूरी करने में खुद को खपा दिया , हमारे संघर्षों की मूक गवाह , रोज लगभग 30 किलोमीटर  बिना कोई तेल,पेट्रोल खाए अनवरत चलने वाली हमारी सदाबहार एटलस साइकिल जिसे बहुत जाम चलने कि वजह से एक बार बेइज्जत भी होना पड़ा था हमारे रिश्तेदार से ,हमें काफी दुःख हुआ था जब भैया हमारे फूफा जी को छोड़ने उसी साइकिल से लेकर स्टेशन छोड़ने गये थे |
साइकिल चलाने का भी अपना एक प्रोटोकाल होता है कोई बहुत बड़ा और वजनी जब अपने छोटी उम्र लड़के के के साइकिल पर बैठता है तो उसकी जगह करियर पर नही बल्कि सीट पर होती है और ऐसा न करने वाले को समाज निर्दयी ,और संस्कार हीन घोषित कर देता है जिससे अगला अपना वो भरोसा खो देता है कि  वो पुनः उस बच्चे के पुष्पक विमान के सवारी का सुख ले पाए तो इसी प्रोटोकाल के तहत फूफा जी साइकिल चला रहे थे और भैया पीछे बैठे थे आगे से मंद मंद बहती पछुवा हवा और जाम साइकिल उनकी नसे ढीली कर रही थी ,फेफड़े अपनी ताकत से ज्यादा काम कर रहे थे और धड़कन बीच बीच में रुक सी जाती थी जैसे तैसे वो चेहरा लाल किये अपने गंतव्य से थोडा पहले उतरे और और कुछ रुपये थमाते हुए बोले थे भाई इसकी सर्विसिंग करा लेना ,भैया ने कहा क्यों कुछ खराबी तो है नहीं इसमें!!! इस पर उन्होंने ऐसी बात कही जो आज भी ज्यों कि त्यों हमारे कानो में गूंजती है , उन्होंने कहा था “ जिस चीज के लिए साइकिल का अविष्कार हुआ वो चीज इसमें कहीं दूर दूर तक दिखाई नहीं देती”| किसी साइकिल के लिए इससे बड़ी बेइज्जती कि बात क्या हो सकती है जब उसने अपनी तमाम उम्र निस्वार्थ हमारी सेवा में लगा दी हो |
खैर जो भी हो हम दोनों भाई उसी साइकिल पर निकल पड़े ट्रेन पकड़ने ,आपको बता दूं कि साइकिल के करियर में एक पतली सी छड ढीली हो गई थी जो सदृश दिशा में क्षैतिज रूप से थोड़ी बाहर सरक जाती थी जो मौके बेमौके दोनों तरफ से पैर करके बैठने वालों के जांघ के पास पैंट फाड़ देती थी और दुर्भाग्यवश भैया पीछे बैठे थे साइकिल का बैलेंस बिगड़ा और रंग में भंग पड गया !!!
सबसे नई , सबसे शानदार , सबसे प्यारी वाली पैंट पहनी थी भैया ने जो उस रोमांचक होने वाली यात्रा के भेंट चढ़ गई और हमारा उत्साह ठंडा पड़ गया,सबसे बड़ी मुसीबत कि अब करें क्या ,फटा पैन्ट पहन कर जा नहीं सकते और इतना टाइम नहीं कि वापस जा कर फिर चेंज करके वो ट्रेन पकड़ लें , अब लगा कि हमारे अरमानों पर पानी फिर जायेगा तब तक एक उपाय आया |
दो ट्रेन आधे घंटे के अंतर पर आती थी शहर जाने को जिसमें एक पैसेंजर होती थी जो हर छोटे बड़े स्टेशन रुकते हुए जाती थी और एक्सप्रेस और टाइम दोनों. का हो चुका था हमारे घर के २० मिनट की दूरी पर एक छोटा सा स्टेशन है जिसपर केवल पैसेंजर ट्रेन्स मिलती है लेकिन हम बड़े वाले स्टेशन पर जाना पसंद करते है क्योंकि पैसेंजर ट्रेन का कोई ठिकाना नही होता और बड़े वाले स्टेशन से एक्सप्रेस भी ट्रेन मिल जाती है सो हमने सोचा कि गाँव के बाहर वाले स्टेशन से वो पैसेंजर पकड़ लें,  सो भाग के आये और चेंज करके स्टेशन कि तरफ पैदल भागे स्टेशन पर पहुँचते तब तक एक और त्रासदी हुई ,आँखों के सामने से वो ट्रेन निकल गई अब मुसीबत और बढ़ गई अब क्या करें घर वापस जाना मंजूर नहीं था और 5 किलोमीटर पैदल बड़े स्टेशन जाना आसान  नहीं था , समय हमें जाने नहीं देना चाहता था और हम ऐसे समय को जाने नहीं देना चाहते थे ,फिर हम लोग पैदल ही रेल कि पटरियों को पकड़ के अगले स्टेशन जाना शुरू कर दिए  ताकि वो एक्सप्रेस पकड़ सकें जो पिछले स्टेशन पर नहीं रूकती थी और जो कभी भी आ सकती थी क्योंकि समय हो चुका था|
जल्दी जल्दी चलते चलते मस्ती भी करते जा रहे थे रेलवे लाइन के किनारे के बेरियों को तोडना , पत्थर उठा के गेंदबाजी करना , डंडे तोड़ कर इधर उधर मारते चलना | अब स्टेशन का आउटर दिखना शुरू हो गया था कि अचानक हमारे कान उस खरगोश के कान की मानिंद खड़े हो गये जो खतरा भांपने का सेंसर होता है , पटरियों में से घिसने कि आवाज आ रही थी कान दिया तो लगा कि कोई ट्रेन आ रही है ,हालाँकि कोई ट्रेन दिखाई नहीं दे रही थी भैया ने तुरंत अपनी पदार्थ भौतिकी विज्ञानं लगा के दौड़ लगानी शुरू कर दी हम पूछे क्या हुआ ? बोले भाग ट्रेन आ रही है जल्दी चल नहीं तो छूट जायेगी ..भैया आगे आगे हम पीछे पीछे रह रह के मैं पीछे घूम के देख लेता था कि ऐसा तो नहीं जो मजे ले रहे हों तब तक हमें इंजन दिखा और हमारी धड़कन बढ़ गई ..मैंने अब अपना शत प्रतिशत लगाना शुरू कर दिया फॉर्मल चमड़े के जूते पत्थरों पर ठोकर खा खा कर बेहाल हो रहे थे भैया स्पोर्ट्स वाले जूते पहने अपने ट्रेनिग के जलवे दिखा रहे थे ..एक लम्बा फासला बढ़ता जा रहा था भैया और हमारे बीच जबकि ट्रेन का फासला नजदीक होता जा रहा था अब स्टेशन दिखने लगा था ट्रेन कि गति धीमी हो रही थी फिर भी हमारी तरफ तेजी से बढ़ रही थी |
हमारा गला सूख रहा था फिर भी जान लगा के दौड़े जा रहे थे कोशिश मेले में जाने कि नहीं बल्कि समय पर विजय पाने की हो रही थी किसी भी कीमत पर असफल होना हम दोनों भाइयों में से किसी को मंजूर नहीं था चाहे वो लक्ष्य गिल्ली डंडा के स्कोर का हो या क्रिकेट मैच का या फिर ट्रेन के साथ दौड़ लगा कर उसी ट्रेन को पकड़ने का , हारना मंजूर नहीं था |
ट्रेन के इंजन ने पहले हमें पीछे किया फिर भैया को, कम से कम एक किलो मीटर की दूरी बची थी और ट्रेन हमें पूरी पार
कर के स्टेशन जाकर खड़ी हो गई , हमने सारी शक्ति लगा के फिर दौड़ना शुरू किया भैया जैसे ही गार्ड के डिब्बे के पास पहुंचे कि सिग्नल ग्रीन हो गया , भैया इस उम्मीद में हाँफते हुए मुझे देख रहे थे कि तुम पहुँचो तो मैं चढ़ूँ वरना मैं भी छोड़ दूंगा |
ट्रेन खुल गई और मैं प्लेटफ़ॉर्म पर चढ़ गया भैया बोगी का हैंडल पकड के चलने लगे मैं भी करीब पहुँच गया ट्रेन ने गति पकडनी शुरू की और हम दोनों भाई चलती ट्रेन में घुस गये |
हमने कर दिखाया, जो चीज हमें चाहिए थी वो मिल गयी हम बेतहाशा हँसे जा रहे थे , वो ख़ुशी थी कोशिश को कामयाबी में बदलने की , वो ख़ुशी थी जीत की, वो ख़ुशी थी साथ मिल कर विजय हासिल करने की ……
हांफते हांफते ही हम 70किमी से ज्यादा दूर निकल आये पता नहीं चला ..हमें सामान्य होते होते शहर आ गया और हम उतर गये मेला करने ..
पहली बार मॉल का मजा ,एस्केलेटर और लिफ्ट में बेवजह ऊपर नीचे…बाहर बड़ी बड़ी मूर्तियाँ , यूनिवर्सिटी के पार्क का झूला , गोलगप्पे , और उस रात खूब घूमे जिंदगी  का उतना मजा शायद ही अब मिले कभी ..
रात में दो बजे वापसी कि ट्रेन थी , स्टेशन पर पहुँचते पहुँचते थकान अपने चरम पर थी …ट्रेन के इन्तेजार में किसी के भारी भरकम डबल बेड साइज़ के लगेज पर आँख लग गई तब तक भैया ने हडबडा के उठाया ट्रेन आ गई थी ..हम बैठ गये और अब अपने स्टेशन उतरे जिस कसबे में पूरा बचपन बीता था दशहरा का मेला करते करते …|

सब्जी मंडी पहुंचें तो घुप्प अँधेरा था और दुर्गा जी का पंडाल जगमगा रहा था और वहां लोगों का जनसमूह सुबह के ४ बजे प्रोजेक्टर पर अजय देवगन के मूवी का मजा ले रहा था …हम भी वो फिल्म देखने बैठ गये और जब हल्का हल्का उजाला होना शुरू हुआ वहां से घर को निकल लिए …. इस घटना को  सात आठ वर्ष बीत चुके हैं पर जब भी दशहरा आता है और भैया से बात होती है तो बरबस ही हंसी छूट जाती है |

– TRIPURENDRA KUMAR OJHA
9044412246

आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद ………!

जौ के ठेकाने ना, सतुआने के तैयारी – भोजपुरी व्यंग्य -एन डी देहाती

14 अप्रेल 17 के सतुआन ह। अब लखनऊआ , दिल्लिहिया कहि दिहे सतुआन का होला। पुरबिहन से पूछ ल। सतुआन के पुरवर परिभाषा बता दीहें। सतुआ भी एगो संस्कृति ह, सादगी के, समानता के, सहजता के। पुरनिया लोग बहुत पहिले से सतुआन मनावेलन। हमहुँ मनाईलन। लोग जौ बोअल छोड़ दिहल जेकरा चलते सतुआ पर संकट आ गईल बा।
हिन्दू पतरा परम्परा में सौर मास के हिसाब से सुरूज देवता जहिआ कर्क रेखा से दखिन के ओर जाले तहिये मेष संक्राति लागेला। ओहि के सतुआन कहल जाला। एहि दिन से खरमास के भी समाप्ति हो जाला आ रडूहन के शादी विवाह होखल शुरू हो जाला।
जवन असकतिहा सालों साल ना नहात होइहैं उहो सतूआन के दिन जरूर नहा लेलन। एही से कहल गईल- असकतिहन के तीन नहान।
खिचड़ी, फगुआ औ सतुआन।।
सतुआन के बहुत तरह से बनावल जाला, सामान्य रूप से आज के दिन जौ के सत्तू गरीब असहाय के दान करे के प्रचलन बा। आज के दिन लोग स्नान पावन नदी गंगा में करे ला, पूजा आदि के बाद जौ के सत्तू, गुर, कच्चा आम के टिकोरा आदि गरीब असहाय के दान कइल जाला आ इष्ट देवता, ब्रह्मबाबा आदि के चढ़ा के प्रसाद के रूप में ग्रहण कइल जाला। ई काल बोधक पर्व संस्कृति के सचेतना, मानव जीवन के उल्लास आ सामाजिक प्रेम प्रदान करेला। पूर्वांचल में चाहे केहू केतनो अमीर होखे आज के दिन सादगी में मनावे खातिर सतुआ के ही भोग लगायी। गावँ से उजड़त गोनसार( भूजा भुजने का चूल्हा , जो गोंड जाति का परम्परागत पेशा रहा), समहुत में जौ के बुआई, नेवान में जौ के भुनल बालि के परसादी अब दुलम होत बा। भाई हो जौ ना बोआई त सतुआ कहा से आयी। सतुआन के पर्व हमे याद दिलावेला। सतुआ के। सतुआ खातित जौ जरूरी बा। जौ के जय जय कार कईल जा। डॉक्टर की कहला पर ना, अपनों विचार से थोड़ा बहुत जौ बोअल जा।
फेरू कबो भेंट होई त दूसरे टॉपिक पर बतकुचन होई। जय राम जी के।

प्रेरक संस्मरण – पंडित दीनदयाल उपाध्याय

किसी ने सच ही कहा है कि कुछ लोग सिर्फ समाज बदलने के लिए जन्म लेते हैं और समाज का भला करते हुए ही खुशी से मौत को गले लगा लेते हैं. उन्हीं में से एक हैं दीनदयाल उपाध्याय जिन्होंने अपनी पूरी जिन्दगी समाज के लोगों को ही समर्पित कर दी.

*दीनदयाल उपाध्याय के बचपन की कहानी*

कहते हैं कि जो व्यक्ति प्रतिभाशाली होता है उसने बचपन से प्रतिभा का अर्थ समझा होता है और उनके बचपन के कुछ किस्से ऐसे होते हैं जो उन्हें प्रतिभाशाली बना देते हैं. उनमें से एक हैं दीनदयाल उपाध्याय जिन्होंने अपने बचपन से ही जिन्दगी के महत्व को समझा और अपनी जिन्दगी में समय बर्बाद करने की अपेक्षा समाज के लिए नेक कार्य करने में समय व्यतीत किया.

पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितंबर, 1916 को ब्रज के मथुरा ज़िले के छोटे से गांव जिसका नाम “नगला चंद्रभान” था, में हुआ था. पं. दीनदयाल उपाध्याय  का बचपन घनी परेशानियों के बीच बीता. दीनदयाल के पिता का नाम ‘भगवती प्रसाद उपाध्याय’ था. इनकी माता का नाम ‘रामप्यारी’ था जो धार्मिक प्रवृत्ति की थीं. दीनदयाल जी के पिता रेलवे में काम करते थे लेकिन जब बालक दीनदयाल सिर्फ तीन साल के थे तो उनके पिता का देहांत हो गया और फिर बाद में 7 वर्ष की कोमल अवस्था में दीनदयाल माता-पिता के प्यार से वंचित हो गए.

*दीनदयाल उपाध्याय का संघर्ष*

दीनदयाल उपाध्याय जी ने माता-पिता की मृत्यु के बाद भी अपनी जिन्दगी से मुंह नहीं फेरा और हंसते हुए अपनी जिन्दगी में संघर्ष करते रहे. दीनदयाल उपाध्याय जी को पढ़ाई का शौक बचपन से ही था इसलिए उन्होंने तमाम बातों की चिंता किए बिना अपनी पढ़ाई पूरी की. सन 1937 में इण्टरमीडिएट की परीक्षा दी. इस परीक्षा में भी दीनदयाल जी ने सर्वाधिक अंक प्राप्त कर एक कीर्तिमान स्थापित किया.

हालांकि पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने नौकरी न करने का निश्चय किया और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के लिए काम करना शुरू कर दिया. संघ के लिए काम करते-करते वह खुद इसका एक हिस्सा बन गए और राष्ट्रीय एकता के मिशन पर निकल चले.

*दीनदयाल उपाध्याय साहित्य के प्रेमी*
पंडित दीनदयाल उपाध्याय को साहित्य से एक अलग ही लगाव था शायद इसलिए दीनदयाल उपाध्याय अपनी तमाम जिन्दगी साहित्य से जुड़े रहे. उनके हिंदी और अंग्रेजी के लेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते थे. केवल एक बैठक में ही उन्होंने ‘चंद्रगुप्त नाटक’ लिख डाला था. दीनदयाल ने लखनऊ में राष्ट्र धर्म प्रकाशन नामक प्रकाशन संस्थान की स्थापना की और अपने विचारों को प्रस्तुत करने के लिए एक मासिक पत्रिका राष्ट्र धर्म शुरू की. बाद में उन्होंने‘पांचजन्य’ (साप्ताहिक) तथा ‘स्वदेश’ (दैनिक) की शुरुआत की.

*दीनदयाल उपाध्याय राजनीति का हिस्सा*
पंडित दीनदयाल उपाध्याय को 1953 में अखिल भारतीय जनसंघ की स्थापना होने पर यूपी का सचिव बनाया गया. पं. दीनदयाल को अधिकांश लोग उनकी समाज सेवा के लिए याद करते हैं. दीनदयाल जी ने अपना सारा जीवन संघ को अर्पित कर दिया था. पं. दीनदयाल जी की कुशल संगठन क्षमता के लिए डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने कहा था कि अगर भारत के पास दो दीनदयाल होते तो भारत का राजनैतिक परिदृश्य ही अलग होता.

पं. दीनदयाल  की एक और बात उन्हें सबसे अलग करती है और वह थी उनकी सादगी भरी जीवनशैली. इतना बड़ा नेता होने के बाद भी उन्हें जरा सा भी अहंकार नहीं था. 11 फरवरी, 1968 को मुगलसराय रेलवे यार्ड में उनकी लाश मिलने से सारे देश में शौक की लहर दौड़ गई थी. उनकी इस तरह हुई हत्या को कई लोगों ने भारत के सबसे बुरे कांडों में से एक माना. पर सच तो यह है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय जैसे लोग समाज के लिए सदैव अमर रहते हैं.

विक्रम संवत और शक संबत

ये दोनों ही संवत शकों पर भारतीय चक्रवर्ती राजाओं की विजय के स्मारक हैं। विक्रम संवत 57 ईपू सम्राट विक्रमादित्य द्वारा शकों पर जीत के उपलक्ष में माना जाता है जबकि शक संवत 78 ई. में सातवाहनों द्वारा शकों पर विजय के रूप में मनाया जाता है या शक सम्राट कनिष्क द्वारा प्रारंभ किया बताया जाता है।
शक संवत भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर है जबकि विक्रम संबत हिन्दुओं का धार्मिक कलेन्डर है।
बारह महीने का एक वर्ष और सात दिन का एक सप्ताह रखने का प्रचलन विक्रम संवत से ही शुरू हुआ | महीने का हिसाब सूर्य व चंद्रमा की गति पर रखा जाता है | यह बारह राशियाँ बारह सौर मास हैं | जिस दिन सूर्य जिस राशि में प्रवेश करता है उसी दिन की संक्रांति होती है | पूर्णिमा के दिन, चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है | उसी आधार पर महीनों का नामकरण हुआ है | चंद्र वर्ष सौर वर्ष से 11 दिन 3 घाटी 48 पल छोटा है | इसीलिए हर 3 वर्ष में इसमें 1 महीना जोड़ दिया जाता है |
यह चैत्र शुक्ल पक्ष प्रथम नवरात्रि के प्रथम दिन से शुरू होता है।
बर्तमान में प्रचलित ईसा सन में +57 करने पर विक्रम संबत और -78 करने पर शक सबंत निकल आता है।

भगवान श्री कृष्ण के जीवन सी जुड़ी 24 अनसुनी बातें

1. भगवान श्री कृष्ण के खड्ग का नाम ‘नंदक’, गदा
का नाम ‘कौमौदकी’ और शंख का नाम ‘पांचजन्य’ था जो गुलाबी रंग का था।

2. भगवान् श्री कॄष्ण के परमधामगमन के समय ना तो
उनका एक भी केश श्वेत था और ना ही उनके शरीर पर कोई झुर्री थीं।

3.भगवान् श्री कॄष्ण के धनुष का नाम शारंग व मुख्य
आयुध चक्र का नाम ‘ सुदर्शन’ था। वह लौकिक , दिव्यास्त्र व देवास्त्र तीनों रूपों में कार्य कर सकता था
उसकी बराबरी के विध्वंसक केवल दो अस्त्र और थे पाशुपतास्त्र ( शिव , कॄष्ण और अर्जुन के पास
थे) और प्रस्वपास्त्र ( शिव , वसुगण , भीष्म और
कॄष्ण के पास थे) ।

4. भगवान् श्री कॄष्ण की परदादी ‘मारिषा’ व सौतेली मां रोहिणी( बलराम की मां) ‘नाग’ जनजाति
की थीं.

5. भगवान श्री कॄष्ण से जेल में बदली गई यशोदापुत्री का नाम एकानंशा था, जो आज विंध्यवासिनी देवी के नाम से पूजी जातीं हैं।

6. भगवान् श्री कॄष्ण की प्रेमिका ‘राधा’ का वर्णन महाभारत, हरिवंशपुराण, विष्णुपुराण व भागवतपुराण में नहीं है। उनका उल्लेख बॄम्हवैवर्त पुराण, गीत गोविंद व प्रचलित जनश्रुतियों में रहा है।

7. जैन परंपरा के मुताबिक, भगवान श्री कॄष्ण के
चचेरे भाई तीर्थंकर नेमिनाथ थे जो हिंदू परंपरा में ‘घोर
अंगिरस’ के नाम से प्रसिद्ध हैं.

8. भगवान् श्री कॄष्ण अंतिम वर्षों को छोड़कर कभी भी द्वारिका में 6 महीने से अधिक नहीं रहे।

9. भगवान श्री कृष्ण ने अपनी औपचारिक शिक्षा उज्जैन के संदीपनी आश्रम में मात्र कुछ महीनों में पूरी कर ली थी।

10. ऐसा माना जाता है कि घोर अंगिरस अर्थात नेमिनाथ के यहाँ रहकर भी उन्होंने साधना की
थी.

11. प्रचलित अनुश्रुतियों के अनुसार, भगवान श्री
कॄष्ण ने मार्शल आर्ट का विकास ब्रज क्षेत्र के वनों में किया था और डांडिया रास उसी का नॄत्य रूप है।

’12. कलारीपट्टु’ का प्रथम आचार्य कॄष्ण को माना
जाता है। इसी कारण ‘नारायणी सेना’ भारत की सबसे भयंकर प्रहारक सेना बन गई थी।

13. भगवान श्रीकृष्ण के रथ का नाम ‘जैत्र’ था और
उनके सारथी का नाम दारुक/ बाहुक था। उनके घोड़ों
(अश्वों) के नाम थे शैव्य, सुग्रीव, मेघपुष्प और बलाहक।

14. भगवान श्री कृष्ण की त्वचा का रंग मेघश्यामल था और उनके शरीर से एक मादक गंध
स्रावित होती थी.

15. भगवान श्री कॄष्ण की मांसपेशियां मृदु परंतु युद्ध के समय विस्तॄत हो जातीं थीं, इसलिए सामन्यतः लड़कियों के समान दिखने वाला उनका लावण्यमय
शरीर युद्ध के समय अत्यंत कठोर दिखाई देने लगता था ठीक ऐसे ही लक्ष्ण कर्ण, द्रौपदी व कॄष्ण के शरीर में देखने को मिलते थे।

16. जनसामान्य में यह भ्रांति स्थापित है कि अर्जुन सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर थे, परंतु वास्तव में कॄष्ण इस विधा में भी सर्वश्रेष्ठ थे और ऐसा सिद्ध हुआ मद्र राजकुमारी
लक्ष्मणा के स्वयंवर में जिसकी प्रतियोगिता द्रौपदी स्वयंवर के ही समान परंतु और कठिन थी।

17. यहां कर्ण व अर्जुन दोंनों असफल हो गये और तब श्री कॄष्ण ने लक्ष्यवेध कर लक्ष्मणा की इच्छा पूरी की, जो पहले से ही उन्हें अपना पति मान चुकीं
थीं।

18. भगवान् श्री युद्ध कृष्ण ने कई अभियान और
युद्धों का संचालन किया था, परंतु इनमे तीन सर्वाधिक
भयंकर थे। 1- महाभारत, 2- जरासंध और कालयवन के विरुद्ध, 3- नरकासुर के विरुद्ध

19. भगवान् श्री कृष्ण ने केवल 16 वर्ष की आयु में विश्वप्रसिद्ध चाणूर और मुष्टिक जैसे मल्लों का वध किया. मथुरा में दुष्ट रजक के सिर
को हथेली के प्रहार से काट दिया.

20. भगवान् श्री कॄष्ण ने असम में बाणासुर से युद्ध
के समय भगवान शिव से युद्ध के समय माहेश्वर ज्वर के विरुद्ध वैष्णव ज्वर का प्रयोग कर विश्व का प्रथम ‘जीवाणु युद्ध’ किया था।

21. भगवान् श्री कॄष्ण के जीवन का सबसे भयानक द्वंद युद्ध सुभुद्रा की प्रतिज्ञा के कारण अर्जुन के साथ हुआ था, जिसमें दोनों ने अपने अपने सबसे विनाशक शस्त्र क्रमशः सुदर्शन चक्र और पाशुपतास्त्र निकाल
लिए थे। बाद में देवताओं के हस्तक्षेप से दोंनों शांत हुए।

22. भगवान् श्री कृष्ण ने 2 नगरों की स्थापना की थी द्वारिका (पूर्व मे कुशावती) और पांडव पुत्रों के द्वारा इंद्रप्रस्थ ( पूर्व में खांडवप्रस्थ)।

23. भगवान् श्री कृष्ण ने कलारिपट्टू की नींव रखी जो बाद में बोधिधर्मन से होते हुए आधुनिक मार्शल आर्ट में विकसित हुई।

24. भगवान् श्री कृष्ण ने श्रीमद्भगवतगीता के रूप में आध्यात्मिकता की वैज्ञानिक व्याख्या दी, जो मानवता के लिए आशा का सबसे बडा संदेश थी, है और सदैव रहेगी.

प्रस्तुति
एम के पाण्डेय निल्को

कुंडली में मांगलिक ‍दोष से डरें नही

जीवन साथी के चयन के लिऐ ग्रह मेलापक (गुण-मिलान) की चर्चा होती है,तो मांगलिक विचार पर खासतौर पर विचार करते है,समाज मे मांगलिक दो  का हव्वा इतनी फैल गया है ।कि मांगलिक के नाम पर महत्वपूर्ण निर्णय अटक जाते है।कई बार अमंगली कुंडली को मांगलिक और मांगलिक कुंडली को अमांगलिक घोषि‍त कर दिया जाता है,जिससे परिजन असमंजस मे पड जाते है,॥
मांगलिक कुंडली का निर्णय बारिकी से किया जाना चाहिऐ क्योकि शास्त्रोँ मै मांगलिक दोष निवारण के तरीके उपलब्ध है.शास्त्रवचनो के जिस श्लोक के आधार पर जहा कोई कुंडली मांगलिक बनती है .वही उस श्लोक के परिहार (काट) कई प्रमाण है,ज्योतिष और व्याकरण का सिध्दांत है,कि पूर्ववर्ती कारिका से परवर्ती कारिका (बाद वाली) बलवान होती है .दोष के सम्बन्ध मै परवर्ती कारिका ही परिहार है ,इसलिये मांगलिक दोष का परिहार मिलता हो तो जरूर विवाह का फैसला किया जाना चाहिये॥ परिहार नही मिलने पर भी यदि मांगलिक कन्या का विवाह गैर मांगलिक वर से करना हो तो शास्त्रो मे विवाह से पूर्व “घट विवाह” का  प्रावधन है ,मांगलिक प्रभाव वाली कुंडलीसे भयभीत होने कि जरूरत नही है ॥यह दोष नही है वल्कि इसी मंगल के प्रभाव से जातक कर्मठ, प्रभावशाली, धैर्यवान तथा सम्मानीय बनता है ॥
                                             घट विवाह भी है उपाय
कन्या की कुंडली मै मांगलिक दोष का परिहार नही हो रहा हो तो उपाय के रूप मे कन्या का प्रथम विवाह \सात फेरे किसी घट (घडे) या पीपल के वृक्ष साथ कराए जाने का विधान है ।इस प्रकार के उपाय के पीछे तर्क यह है कि मंगली दोष का मारक प्रभाव उस घट या वृक्ष पर होता हे ,जिससे कन्या का प्रथम विवाह किया जाता है । वर दूसरा पति होने के कारण उस प्रभाव से सुरक्षित रह जाता है ॥घट विवाह शुभ विवाह मुहूर्त और शुभ लग्न मे पुरोहित द्वारा सम्पन्न कराया जाना चाहिये । कन्या का पिता पूर्वाभिमुख बैठकर अपने दाहिने तरफ कन्या को बिठाऐ॥ कन्या का पिता घट विवाह का सकल्प ले ।नवग्रह,गौरी गणेशादि का पूजन ,शांति पाठ इत्यादि करे ।घट कि षोडषोचार से पूजा करे ।शाखोचार,हवन,सात फेरे और विवाह कि अन्य रश्म निभाये ।बाद मे कन्या घट को उठाकर ह्र्दय से सटाकर भुमि पर छोड दे जिससे घट फूट जाये ।इसके बाद देवताओ का विसर्जन करे और ब्राह्मणो को दक्षिणा दे बाद मे चिरंजीवी वर से कन्या का विवाह करे॥
                             मंगल का विचार करना
लग्ने व्यये च पाताले यामित्रे चाष्टमे कुजे .                                                                                                     कन्या भर्तु विनाशाय भर्तु कन्या विनाशकृत ॥
जन्म लग्न मे (1,4,7,8,12)स्थानो मंगल होने से वर – कन्या मंगली होते है॥
                       
                            मंगल दोष के परिहार

मांगलिक कुंडलियो मे दो तरह के परिहार मिलते है। (1) स्वय की कुंडली मे-जैसे शुभ ग्रहो का केन्द्र मे होना,शुक्र द्वितीय भाव मे हो,गुरू मंगल साथ हो या मंगल पर गुरू की दृष्टिे हो तो मांगलिक दोष का परिहार हो जाता है। (2) वर-कन्या की कुन्डली मे आपस मांगलिक दोष का काट –जैसे एक के मांगलिक स्थान मे मंगल हो और दूसरे के इन्ही स्थानो मे सूर्य,शनि,राहु,केतु मे से कोई एक ग्रह हो तो दोष नष्ट हो जाता है।पापक्रांत शुक्र और सप्तम भाव के स्वामी की नेष्ट स्थिति को भी मंगल तुल्य ही समझे।मंगल दोष परिहार के कुछ शास्त्र वचन निम्न प्रकार है।इनके आधार पर यदि मांगलिक दोष भंग हो जाता है तो विवाह के बाद उनका दाम्पत्य जीवन सुख और प्रसन्नता पूर्वक व्यतीत होगा॥
अंजे लग्ने व्यये चापे पाताले वृश्चिके कुजे।                                                                                                                                  वृषे जाए घटे रन्ध्रे भौमदोषो न विद्यते॥ 
मेष का मंगल लग्न मे, धनु का द्वादश भाव मे वृश्चिक का चौथे भाव मे,वृष का सप्तम मे कुम्भ का आठवे भाव मे हो तो भौम दोष नही रहता ॥
अर्केन्दु क्षेत्रजातां कुज दोषो न विद्यते ।                                                                                                                      स्वोच्चमित्रभ जातानां तद् दोषो न विद्यते ॥
सिंह लग्न और कर्क लग्न मे भी लग्नस्थ मंगल का दोष नही होता है
नीचस्थो रिपुराशिस्थः खेटो भाव विनाशकः ।                                                                                                                               मूलस्वतुंगा मित्रस्था भावबृद्धि करोत्यलमः ॥
कुंडली मे मंगल यदि स्व-राशि (मेष,बृश्चिक )मूलत्रिकोण,उच्चराशि (मकर)मित्र राशि (सिंह,धनु,मीन )मे हो तो भौम दोष नही रहता है                                                                                                                                               शनि भौमोथवा कश्चित्पापो वा तादृशो भवेत् ।                                                                                                                  तेष्वेव भवनेष्वेव भौम दोष विनाशकृत ॥
शनि मंगल या कोई भी पाप ग्रह जैसे राहु,सूर्य,केतु अगर मंगलिक भावो(1,4,7,8,12)मे कन्या कि कुंडली हो और उन्ही भावो मे वर के भी हो तो भौम दोषनष्ट होता है ।यानि यदि एक कुंडली मे मांगलिक स्थान मे मंगल हो तथा दूसरे की मे इन्ही स्थानो मे शनि,सूर्य,मंगल,राहु,केतु मे से कोई एक ग्रह हो तो उअस दोष को काटता है।
केन्द्रे कोणे शुभाढ्याश्चते् च त्रिषडा़येप्य सद्ग्रहाः ।                                                                                                                                         तदा भौमस्य दोषो न मदने मदपस्तथा ॥                  
यानी 3,6,11वे भावो मे अशुभ ग्रह हो और केन्द्र (1,4,7,10)व त्रिकोण (5,9) मे शुभ ग्रह हो,सप्तमेष सातवे भाव मे हो तो मंगल दोष नही रहता है ।
वाचस्पतौ नवपंच केन्द्र संस्थे जातांगना भवति पूर्णविभूतियुक्ता ।                                                                          साध्वी सुपुत्रजननी सुखिनीगुढ्यां सप्ताष्टके यदि भवेदशुभ ग्रहोपि ॥
कन्या की कुंडली मे गुरू यदि केन्द्र या त्रिकोण मे हो तो मांगलिक दोष नही लगता अपितु उसके सुख-सौभाग्य को बढाने वाला होता है ।    त्रिषट्‍ एकादशे राहु त्रिषड़कादशे शनिः। त्रिषड़कादशे भौमः सर्वदोष विनाशकृतः॥
यदि एक कुंडली मे मांगलिक योग हो और दूसरे कि कुंडली के (3,6,11)वे भाव मे से किसी भाव मे राहु ,मंगल या शनि मे से कोई ग्रह हो तो मांगलिक दोष नष्ट हो जाता है ।
द्वितीय भौमदोषस्तु कन्यामिथुन योर्विना,                                                                                                                                चतुर्थ कुजदोषःस्याद्‍ तुलाबृषभयोर्विना।                                                                                                                    अष्टमो भौमदोषस्तु धनु मीनद्व योर्विना,                                                                                                                                                                   व्यये तु कुजदोषःस्याद् कन्यामिथुन योर्विना॥
द्वितीय भाव मे यदि बुध राशि (मिथुन,कन्या) का मंगल हो तो मांगलिक दोष नही लगेगा ऐसा बृष व सिंह लग्न की कुंडली मे ही होगा ।चतुर्थ भाव मे शुक्र राशि (बृष,तुला) का मंगल दोषकृत नही है, ऐसा कर्क व कुम्भ लग्न मे होगा।अष्टम भाव मे गुरू राशि (धनु,मीन) का मंगल दोष पैदा नही करेगा ।ऐस बृष और सिंह लग्न मे ही सम्भव है और बारहवे भाव मे मंगल का दोष बुध कि राशि (मिथुन,कन्या) मे नही होगा ।ऐसा कर्क और तुला लग्नो मे ही होगा तथा 1,4,7,8,12 वे भाव मे मंगल यदि चर राशि मेष कर्क ,तुला और मकर मे हो तो भी मांगलिक दोष नही लगता है ॥
भौमेन सदृषो भौमः पापोवा तादृशो भवेत।                                                                                                      विवाह शुभदः प्रोक्ततिश्चरायुः पुत्र पौत्रदः ॥
मंगल के समान ही कोई पापग्रह (सूर्य,शनि,राहु,केतु) दूसरे कि कुंडली  के मांगलिक स्थान मे हो तो दोनो का विवाह करना चाहिए ,ऐसे दाम्पत्ति आयु,पुत्र,पौत्रादि से सम्पन्न होकर सुखी जीवन व्यतीत करेगे ।                                            यामित्रे च यदा सौरि लग्ने वा हिबूकेथवा ।                                                                                                                      अष्टमे द्वादशे चैव- भौम दोषो न विद्यते ॥
जिस वर –कन्या के (1,4,7,8,12) इन स्थनो मे शनि हो तो मंगली दोष मिट जाता है
गुरु भौम समायुक्तश्च भौमश्च निशाकरः                                                                                                                केन्द्रे वा वर्तते चन्द्र एतद्योग न मंगली ।                                                                                                                      गुरु लग्ने त्रिकोणेवा लाभ स्थाने यदा शनिः,                                                                                                                  दशमे च यदा राहु मंगली दोष नाश कृत॥
गुरु भौम के साथ पडने से अथवा चन्द्रमा भौम एक साथ और केन्द्र मे (1,4,7,10) इन स्थानो मे चन्द्रमा होवे तो भी मंगली दोष मिट जाता है , जिसके लग्न मे गुरु बैठा हो अथवा त्रिकोण स्थान (5,9) मे गुरु बैठा और 11 भाव शनि हो 10 वे स्थान राहु बैठा हो तो भी मंगली दोष मिट जाता है ॥

« Older Entries