आदमी इंसान बन जाए

काश आदमी इंसान बन जाये
मजहब सब का ईमान बन जाये ,

दैरो हरम सब मोहब्बत के हो
मोहब्बत पूजा अजान बन जाये ,

न अदावत हो भाई की भाई से
वो इस की ये उस की जान बन जाये ,

कर हिदायत अमीरे शहर को खुदा
कि मुफलिस पर मेहरबान बन जाये ,

रहे दिल में उस के हर पल फकीरी
चाहे मुल्क का सुल्तान बन जाये ,

जमीर जिन्दा रहे निगहे बान का
न वतन का वो बेईमान बन जाये ,

अगर ‘राकेश’ ये हो जाये वतन में
तो जन्नत हिंदुस्तान बन जाये ,
🎊🌷राकेश कुमार मिश्रा🌷🎊

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s