पूछते हो कि मैं खुश हूँ

दिनोंदिन दल बदलते हो पूछते हो कि मैं खुश हूँ,
पासा पल में पलटते हो पूछते हो कि मैं खुश हूँ !

अनुशासन या डर कहो है बहुत जरुरी घर-बाहर,
अधनंगे खुद निकलते हो पूछते हो कि मैं खुश हूँ !

पहले तुमने देश भीतर जड़-तने खंडित किये,
विघटन की चालें चलते हो पूछते हो कि मैं खुश हूँ !

आजादी के मायने अफजल कन्हैया क्या समझें,
अफसोस तुम पक्ष रखते हो पूछते हो कि मैं खुश हूँ !

मन कहे, खुशियाँ बाँटूं सो कह चला, हूँ खुश बड़ा,
अस्मिता को लूटते हो पूछते हो कि मैं खुश हूँ !

~ अमर अद्वितीय मथुरा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s