पूर्वजों के प्रति सच्ची श्रद्धा ही सही मायने में श्राद्ध है – एम के पाण्डेय ‘निल्को’

श्राद्ध का अर्थ है, श्रद्धा से जो कुछ दिया जाय

(श्रद्धया दीयते यत् तत् श्राद्धम)

शास्त्रों में मनुष्य के लिए कुल 3 ऋण बतलाए गए हैं-

1. देव ऋण, 2. ऋषि ऋण और 3. पितृ ऋण।

ये तीन प्रकार के ऋण बतलाए गए हैं। इनमें श्राद्ध द्वारा पितृ ऋण उतारना आवश्यक माना जाता है, क्योंकि जिन माता-पिता ने हमारी आयु, आरोग्य और सुख-सौभाग्यादि की वृद्धि के अनेक यत्न या प्रयास किए, उनके ऋण से मुक्त न होने पर मनुष्य जन्म ग्रहण करना निरर्थक माना जाता है। श्राद्ध से तात्पर्य हमारे मृत पूर्वजों व संबंधियों के प्रति श्रद्धा व सम्मान प्रकट करना है। 
दिवंगत व्यक्तियों की मृत्यु तिथियों के अनुसार इस पक्ष में उनका श्राद्ध किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इन तिथियों में हमारे पितृगण इस पृथ्वी पर अपने-अपने परिवार के बीच आते हैं। श्राद्ध करने से हमारे पितृगण प्रसन्न होते हैं और हमारा सौभाग्य बढ़ता है। 
शुक्रवार, 13 सिंतबर को और शनिवार, 14 सितंबर को भादौ मास की पूर्णिमा है। इस तिथि पर भाद्रपद मास खत्म हो जाएगा। 15 सितंबर से आश्विन मास शुरू होगा। इस मास के कृष्ण पक्ष में पितृ पक्ष मनाया जाता है। इन दिनों में पितरों के लिए शुभ काम किए जाते हैं। आमतौर पर किसी व्यक्ति की मृत्यु जिस तिथि पर होती है, पितृ पक्ष में उसी तिथि पर श्राद्ध कर्म किए जाते हैं। 
पुराण में 12 तरह के श्राद्ध बताए गए हैं जो की इस प्रकार है – 
नित्य श्राद्ध – पितृपक्ष के पूरे दिनों में हर रोज जल, अन्न, दूध और कुश से श्राद्ध करने से पितर प्रसन्न होते हैं। 
नैमित्तिक श्राद्ध – माता-पिता की मृत्यु के दिन यह श्राद्ध किया जाता है। इसे एकोदिष्ट कहा जाता है। 
काम्य श्राद्ध – यह श्राद्ध विशेष सिद्धि की प्राप्ति के लिए किया जाता है। 
वृद्धि श्राद्ध – सौभाग्य और सुख में कामना कामने के लिए वृद्धि श्राद्ध किया जाता है। 
सपिंडन श्राद्ध – यह श्राद्ध मृत व्यक्तियों को 12वें दिन किया जाता है। इसे महिलाएं भी कर सकती है। 
पार्वण श्राद्ध – इस श्राद्ध को पर्व की तिथि पर किया जाता है। इसलिए इसे पार्वण श्राद्ध कहा जाता है। 
गोष्ठी श्राद्ध – जो श्राद्ध परिवार के सभी सदस्य मिलकर करते हैं उसे गोष्ठी श्राद्ध कहा जाता है। 
शुद्धयर्थ श्राद्ध – पितृपक्ष में किया जाने वाले यह श्राद्ध परिवार की शुद्धता के लिए किया जाता है। 
कर्मांग श्राद्ध – किसी संस्कार के मौके पर किया जाने वाले श्राद्ध कर्मांग श्राद्ध कहलाता है। 
तीर्थ श्राद्ध – किसी तीर्थ पर किये जाने वाला श्राद्ध तीर्थ श्राद्ध कहा जाता है। 
यात्रार्थ श्राद्ध – जो श्राद्ध यात्रा की सफलता के लिए किया जाता है उसे याश्रार्थ श्राद्ध कहा जाता है। 
पुष्टयर्थ श्राद्ध – जो श्राद्ध आर्थिक उन्ननि के लिए किए जाते हो इसे पुष्टयर्थ श्राद्ध कहा जाता है। 
अखिल भारतीय विद्वत महासभा के प्रवक्ता आचार्य पं शरदचन्द्र मिश्र बताते है की श्राद्ध कर्म मे कुछ ध्यान देने योग्य बातें भी है जिसका ध्यान रखना बहुत जरूरी है – 
1. श्राद्ध में दौहित्र (कन्या का पुत्र),कुतप काल (दिन के 15 मुहुर्त में आठवां मुहुर्त),और तिल को अत्यन्त पवित्र माना जाता है । 
2. श्राद्ध पक्ष के लिए शुक्ल पक्ष की अपेक्षा कृष्ण पक्ष, पूर्वाह्न की अपेक्षा अपराह्न श्रेष्ठ माना जाता है । 
3. पूर्वाह्न मे ,शुक्ल पक्ष में, रात्रि में, युग्म दिनों में तथा अपने जन्म दिन पर कभी श्राद्ध नही करना चाहिए । 
4. रात्रि में राक्षसी समय माना जाता है अतः रात्रि में श्राद्ध कर्म नही करना चाहिए । 
5. चतुर्दशी के दिन श्राद्ध करना अशुभ रहता है, जिनकी स्वाभाविक मृत्यु चतुर्दशी को हुई है, उनका श्राद्ध दूसरे दिन यानि अमावस्या को करना चाहिए, वैसे जो पितृ शस्त्र से मारे गये हैं वे चतुर्दशी के दिन श्राद्ध करने से प्रसन्न होते हैं । 
6. चाहें श्राद्ध पक्ष हो या न हो, किसी तीर्थस्थल पर पहुंचते ही सर्वप्रथम स्नान, तर्पण और श्राद्ध करना चाहिए । 
7. दोनो संध्यायों के समय श्राद्ध नही करना चाहिए । 
8. दिन के आठवें मुहूर्त (कुतप बेला) में पितरों के लिए दिया गया दान अक्षय होता है ।मध्याह्न काल, चांदी, कुश, गौ, तिल, नेपाल कम्बल और दौहित्र, खंगपात्र- –ये आठ कुतप माने गये है । 
9. दूसरे की भूमि में श्राद्ध नही करना चाहिए ।वन, पर्वत, पुण्यतीर्थ एवं मन्दिर, ये दूसरे की भूमि नही माने जाते, क्योंकि इन पर किसी का स्वामित्व नही माना जाता है । 
10. श्राद्ध गुप्त रूप से करना चाहिए, प्रदर्शन न करें । 
11. देव कर्म में (यदि चाहें तो) ब्राह्मण की परीक्षा न करें, लेकिन पितृकर्म में यत्नपूर्वक ब्राह्मण की परीक्षा करनी चाहिए, क्योंकि श्राद्ध में पितरों की तृप्ति तो ब्राह्मणों द्वारा ही होती है । 
12. श्राद्ध में ब्राह्मण को नियन्त्रित करना आवश्यक है जो विना ब्राह्मण के श्राद्ध करता है उसके घर में पितर भोजन नही करते, शाप देकर लौट जाते है ।ब्राह्मणहीन श्राद्ध से मनुष्य महापाप होता है । 
13. यदि श्राद्ध का भोजन करने वाले एक हजार ब्राह्मणों के सम्मुख एक भी योगी हो, तो वह यजमान के सहित सभी ब्राह्मणों का उद्धार कर देता है । 
14. श्राद्ध में जौ, काॅगुनी (टंगुनहिया),गेंहू, धान, तिल, मटर, कचनार, और सरसो का प्रयोग श्रेष्ठ रहता है ।तिल की मात्रा अधिक होने से श्राद्ध अक्षय हो जाता है ।वास्तव में तिल पिशाचों से श्राद्ध की रक्षा करता है ।कुश राक्षसों से बचाता है । 
15. वेदज्ञ एक ब्राह्मण ही यदि श्राद्ध पर भोजन करे तो दस लाख अज्ञानी ब्राह्मणों करवाने के बराबर फल मिलता है । 
16. गुरू, नाना, मामा,भानजा? ससुर, दौहित्र, जामाता, बान्धव, ॠत्विज, एवं यज्ञ कर्ता इन दस को श्राद्ध में अवश्य भोजन कराना चाहिए । 
17. जो काम, क्रोध, अथवा भय के कारण- -पांच कोश (16 किलोमीटर) के भीतर रहने वाले जमाता, बहन तथा भानजे को भोजन नही कराता है एवं दूसरे को भोजन कराया, वहाॅ उसके पितरों के साथ देवता भी अन्न ग्रहण नही करते है । 
18. भानजा तथा भाई- बन्धु मूर्ख भी हो तो भी उसकी अनदेखी नही करनी चाहिए । 
19. जो एक श्राद्ध के अवसर पर आये अतिथि का सत्कार नही करते, उनका यह श्राद्ध का सम्पूर्ण फल नष्ट हो जाता है । 
20. श्राद्ध कर्म में सिर्फ गाय का दूध, दही, घी, काम में लेना चाहिए, परन्तु एक बात ध्यान रहे कि गाय को बच्चा हुए दस दिन से अधिक हो चुका हो । 
21. श्राद्ध कर्म में मित्रों को बुलाकर श्राद्धान्न को मित्रता बढ़ाने का साधन बनाना श्राद्ध के अच्छे फल को नष्ट करता है । स्वर्ण, चाॅदी और ताम्बे के पात्र पितरों को प्रिय है श्राद्ध में चाॅदी का उपयोग, दर्शन और दान पुण्यदायक तो है ही, राक्षसों का नाश करने वाला भी माना जाता है । चाॅदी भगवान शिव के नेत्रों से उत्पन्न होने के कारण पितरों को प्रिय है । 
22. पितरों के लिए चाॅदी के पात्र में सिर्फ जल ही दिया जाय तो वह अक्षय तृप्तिकारक होता है ।पितरों के लिए अर्घ्य, पिण्ड और भोजन के पात्र भी यदि चाॅदी के हों तो और भी श्रेष्ठ माना गया है । 
23. श्राद्ध में ब्राह्मण को भोजन करवाते समय परोसने के बर्तन दोनो हाथों से पकड़ कर लाने चाहिए, एक हाथ से लाया अन्नपात्र से परोसा हुआ भोजन राक्षस छीन लेते है । 
24. ब्राह्मणों को भोजन मौन रहकर और व्यंजनों की प्रशंसा किये वगैर करना चाहिए, क्योंकि पितर तब तक ही भोजन ग्रहण करते हैं जब तक ब्राह्मण मौन होकर भोजन ग्रहण करते है । 
अगर किसी को अपने परिजन की मृत्यु की तिथि सही-सही मालूम ना हो तो इसका श्राद्ध अमावस्या तिथि को किया जाना चाहिए। 
ऐसा विश्वास है कि श्राद्ध से प्रसन्न होकर पितृगण श्राद्धकर्ता को आयु, धन, विद्या, सुख-संपत्ति आदि प्रदान करते हैं। पितरों के पूजन से मनुष्य को आयु, पुत्र, यश-कीर्ति, लक्ष्मी आदि की प्राप्ति सहज ही हो जाती है। 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s