Monthly Archives: February 2017

शिक्षाविदों को अवंतिका शिक्षक सम्मान से नवाजा गया

  • जयपुर के गूगल बॉय मनन सूद ने अपने विलक्षण प्रतिभा से किया सभी को आश्चर्यचकित । 
  • संगीत समीक्षक सुदेश शर्मा ने अपने गायन से लोगो का मन मोहा ।
अवन्तिका संस्था द्वारा स्थानीय इंटरनेशनल स्कूल ऑफ इन्फॉर्मैटिक्स एंड मैनेजमेंट टेक्निकल कैम्पस, मानसरोवर पर शहर के चयनित शिक्षाविदों को उनके द्वारा किए गए समर्पित शिक्षण सेवा व अनुकरणीय कार्यों हेतु अवन्तिका शिक्षक सम्मान से नवाजा गया । कार्यक्रम का शुभारंभ विख्यात मंत्रज्ञ व मेडिटेसन एक्सपर्ट निर्मला सेवानी द्वारा मेडिटेशन और दीप प्रज्वलित कर किया गया । उक्त अवसर पर अवंतिका के राष्ट्रीय निदेशक डॉ॰ आनंद अग्रवाल ने कहा की शिक्षक समाज का दर्पण होते हैं और देश के विकास में शिक्षकों की महत्ती भूमिका होती है। उन्होंने शिक्षकों से आव्हान किया कि वे निःश्वार्थ भाव शिक्षण कार्य का निर्वहन करने और शिक्षक और विद्यार्थियों बीच की गरिमा को बनाये रखने पर जोर दिया। इस सम्मान समारोह में  डॉ॰ राखी गुप्ता (आई॰ आई॰ एस॰ यूनिवर्सिटी), डॉ॰ मधु श्रीवास्तव (सुबोध गर्ल्स कॉलेज), डॉ॰ निमाली सिंह (महारानी कॉलेज), श्रीमती रामा दत्त (संस्कार स्कूल), फादर जॉन रवि (सेंट जेवियर्स स्कूल, नेवटा), श्रीमती रश्मी तलवार (महावीर पब्लिक स्कूल), श्रीमती नीरा पाण्डेय (आर्मी पब्लिक स्कूल), श्रीमती सोनाली सिंधवी बंसल (जयश्री पेड़ीवाल प्री स्कूल) श्रीमती ज्योति राठौड़ (एम॰ के॰ बी॰ स्कूल), श्रीमती माला अग्निहोत्री (इंडिया इन्टरनेशनल स्कूल), सिस्टर दीपा मैथ्यु (सेंट जेवियर्स स्कूल, जयपुर), श्रीमती सुनीता राठौड़ (टैगोर पब्लिक स्कूल), श्रीमती उषा किरण शर्मा (बाल विश्व भारती स्कूल), श्रीमती सरिता कटियार (रेयान इन्टरनेशनल स्कूल), श्रीमती मधु सूद (रवीन्द्र निकेतन पब्लिक स्कूल), श्रीमती तान्या शर्मा (टी॰ पी॰ एस॰), श्रीमती सीमा अहमद (आलोक मेमोरियल स्कूल), श्रीमती बीना शर्मा (टी॰ पी॰ एस॰), श्रीमती सीमा चौधरी (राजकीय सी॰ सै॰ स्कूल, हरमाड़ा), श्री धीरज मिश्रा ( टैगोर विद्द्या भवन), श्रीमती पीयूष सूद (द रूटस पब्लिक स्कूल) को सम्मानित किया गया ।
समारोह को मुख्य रूप से आई. आई. एस. यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ॰ अशोक गुप्ता, श्री पी. डी. सिंह आदि ने संबोधित किया तथा निर्मला सेवानी, आलोक सूद ने सभी लोगो का आभार व्यक्त किया था । इस अवसर पर जय, मधुलेश पाण्डेय, अर्जुन, प्रणव सहित सैकड़ो लोग उपस्थित रहे ।

Clean Master की एक भयानक सच्चाई

यह एक नीडफुल स्‍मार्टफोन एप है. इस एप से आप अपने फोन की जंक फाइल्‍स को ईजिली डिलीट कर सकते हैं. इसके अलावा इस एप का सबसे जरूरी काम फोन की मेमोरी को बूस्‍ट करके प्रोसेसिंग स्‍पीड इनक्रीज करना है. इस एप को गूगल प्‍लेस्‍टोर से डाउन लोड किया जा सकता है. दोस्तों आज मै आप सभीको Clean Master की एक भयानक सच्चाई बताने जा रहा हु जैसा की आप जानते है Clean master एक एंटीवायरस /बूस्टर app है जो Cheetah mobile की तरफ से है अधिक जानकारी के लिए इस विडियो को जरुर देखे और इसे इतना शेयर करे की हर एक Clean master यूजर के पास ये पहुंचे और वो इसकी सच्चाई जान ले | जय हिन्द !!!

आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान करें! धन्यवाद ………!

अवन्तिका शिक्षक सम्मान समारोह कल 12 बजे

अवन्तिका संस्था द्वारा दिनांक 28 फरवरी 2017 को स्थानीय इंटरनेशनल स्कूल ऑफ इन्फॉर्मैटिक्स एंड मैनेजमेंट टेक्निकल कैम्पस, मानसरोवर पर शहर के चयनित शिक्षाविदों को उनके द्वारा किए गए समर्पित शिक्षण सेवा व अनुकरणीय कार्यों हेतु अवन्तिका शिक्षक सम्मान से नवाजा जाएगा । इस अवसर पर डॉ॰ राखी गुप्ता (आई॰ आई॰ एस॰ यूनिवर्सिटी), डॉ॰ मधु श्रीवास्तव (सुबोध गर्ल्स कॉलेज), डॉ॰ निमाली सिंह (महारानी कॉलेज), श्रीमती रामा दत्त (संस्कार स्कूल), फादर जॉन रवि (सेंट जेवियर्स स्कूल, नेवटा), श्रीमती रश्मी तलवार (महावीर पब्लिक स्कूल), श्रीमती नीरा पाण्डेय (आर्मी पब्लिक स्कूल), श्रीमती सोनाली सिंधवी बंसल (जयश्री पेड़ीवाल प्री स्कूल) श्रीमती ज्योति राठौड़ (एम॰ के॰ बी॰ स्कूल), श्रीमती माला अग्निहोत्री (इंडिया इन्टरनेशनल स्कूल), सिस्टर दीपा मैथ्यु (सेंट जेवियर्स स्कूल, जयपुर), श्रीमती सुनीता राठौड़ (टैगोर पब्लिक स्कूल), श्रीमती उषा किरण शर्मा (बाल विश्व भारती स्कूल), श्रीमती सरिता कटियार (रेयान इन्टरनेशनल स्कूल), श्रीमती मधु सूद (रवीन्द्र निकेतन पब्लिक स्कूल), श्रीमती तान्या शर्मा (टी॰ पी॰ एस॰), श्रीमती सीमा अहमद (आलोक मेमोरियल स्कूल), श्रीमती बीना शर्मा (टी॰ पी॰ एस॰), श्रीमती सीमा चौधरी (राजकीय सी॰ सै॰ स्कूल, हरमाड़ा), श्री धीरज मिश्रा ( टैगोर विद्द्या भवन), श्रीमती पीयूष सूद (द रूटस पब्लिक स्कूल) को सम्मानित किया जाएगा । कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ॰ अशोक गुप्ता (वाइस चांसलर, दी आई. आई. एस. यूनिवर्सिटी), श्री पी. डी. सिंह (कमिशनर, अवंतिका, राजस्थान), डॉ॰ आनंद अग्रवाल (राष्ट्रीय निदेशक, अवंतिका) द्वारा किया जाएगा । इस अवसर पर विख्यात मंत्रज्ञ व मेडिटेसन एक्सपर्ट निर्मला सेवानी, बाल विलक्षण प्रतिभा मनन सूद (गूगल बॉय) तथा संगीतज्ञ श्री सुदेश शर्मा आकर्षण का केंद्र रहेगे। उक्त जानकारी अवंतिका राजस्थान कोडिनेटर श्री आलोक सूद तथा मिडिया प्रभारी एम के पाण्डेय निल्को ने दी।

अवन्तिका शिक्षक सम्मान 28 फरवरी को

अवन्तिका संस्था द्वारा राज्य के शिक्षाविदों को दिनाक 28 फरवरी को मानसरोवर, जयपुर स्थित इंटरनेशनल स्कूल ऑफ इन्फॉर्मैटिक्स एंड मैनेजमेंट टेक्निकल कैम्पसमे, शिक्षा जगत मे किए गए अनुकरणीय कार्यो हेतु अवन्तिका शिक्षक सम्मान से सम्मानित किया जाएगा । इसमे राज्य के विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओ के प्राचार्यो को सम्मानित किया जाना है । कार्यक्रम के शुभारम्भ मेडिटेशन एक्सपर्ट निर्मला सेवानी मेडिटेशन से कराएगी । अवन्तिका के राष्ट्रीय निदेशक डॉ. आनंद अग्रवाल द्वारा कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण जयपुर के छ वर्षीय बालक गूगल बॉय मनन सूद रहेगे । सांगीतिक प्रस्तुति गायक सुदेश शर्मा द्वारा दी जाएगी । उक्त जानकारी अवन्तिका के राजस्थान मीडिया प्रभारी मधुलेश पाण्डेय ने दी । अधिक जानकारी हेतु आप 9799113100 पर सम्पर्क कर सकते है

हमारे जैसा कोई दूसरा इस दुनिया है ही नहीं।

जब हमारे जैसा कोई दूसरा इस दुनिया है ही नहीं। फिर किसी से क्या तुलना। अपना आलस्य अपनी गप्पे अपनी बाते अपनी हार अपनी असफलता सब कुछ अपना है। एक दम यूनिक !! एकदम अलग !! यानि न कोई अपने से आगे और न अपने किसी से पीछे। सब के रास्ते अलग अलग है। सबकी मंजिले अलग अलग है। जो कुछ हमारे पास है वो किसी दूसरे के पास नहीं। लिहाजा….जो भी हमारे पास है। वह सिर्फ हमारे ही पास है। जो बेशकीमती है। शायद हम भी। और आप भी और ये दुनिया भी। ये ग़लत है की दुनिया बड़ी होती है, सच तो ये है की दुनिया से बड़ी दुनिया में रहने वाले मनुष्य का अपना मन होता है । सोचने पर किसी का जोर नही !! इसीलिए आज जी भर के सोचा है !! बस यंही कुछ लोचा है !!

भूत-प्रेत क्या होते हैं ?

भूत-प्रेत के नाम से एक अनजाना भय लोगो की मन को सताता है।  इसके किस्से भी सुनने को मिल जाते है और लोग बहुत रुचि व विस्मय के साथ इन्हें सुनते है और इन पर बनें सीरियल, फिल्मे देखते है व कहानियाँ पढ़ते हैं। भूत-प्रेत का काल्पनिक मनः चित्रण भी लोगों को भयभीत करता है-रात्रि के बारह बजे के बाद, अँधेरे में, रात्रि के सुनसान में भूत-प्रेत के होने के भय से लोग़ डरते हैं। क्या सचमुच भूत-प्रेत होते है ? यह प्रशन लोगों के मन में आता है ? क्योंकि इनके दर्शन दुर्लभ होते है, लेकिन ये होते है। जिस तरह से हम वायु को नहीं देख सकते, उसे महसूस कर सकते हैं, उसी तरह हम भूत को नहीं देख सकते पर कभी-कभी ये अचानक देखे भी जाते है।  भूतों का अस्तित्व आज भी रह्स्य बना हुआ है।  इसलिए इनके बारे में कोई भी जानकारी हमें रोमांच से भर देती है। आखिर भूत है क्या ? यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है।  परंपरागत तौर पर यही माना जाता है कि भूत उन मृतको की आत्माएँ हैं, जिनकी किसी दुर्घटना, हिंसा, आत्महत्या या किसी अन्य तरह के आघात  आकस्मिक मृत्यु हुई है।  मृत्यु हो जाने के कारण इनका अपने स्थुल शरीर से कोई संबंध नहीं होता।  इस कारण ये भूत-प्रेत देखे नहीं जा सकते।  चूँकि हमारी पहचान हमारे शरीर से होती हैं और जब शरीर ही नहिं है तो मृतक आत्मा को देख पाना और पहचान पाना मुश्किल होता हैं। भूत-प्रेतों को ऐसी नकारात्मक सत्ताएं माना गया है, जो कुछ कारणों से पृथ्वी और दूसरे लोक  बीच फँसी रहती हैं।  इन्हे बेचैन व चंचल माना गाया है, जो अपनी अप्रत्याशित मौत के कारण अतृप्त हैं।  ये मृतक आत्माएँ  कई बार छाया, भूतादि के रूप में  स्थानों  के पीछे लॉग जाती हैं, जिनसे जीवितावस्था में इनका संबन्ध या मोह था।

मास्टर सिद्धेश पाण्डेय उर्फ यश को देवरिया रत्न अवार्ड से मुख्य अतिथि अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व बच्चालाल मौर्य ने सम्मानित किया

देवरिया, लार थाना के हरखौली निवासी मास्टर सिद्धेश पाण्डेय उर्फ यश बाबा को शहर के कार्यक्रम देवरिया महोत्सव 2017 में देवरिया रत्न अवार्ड प्रदान कर सम्मानित किया गया। VMW Team के सिद्धेश के जयपुर में होने के कारण अवार्ड उनके बड़े भाई बैंक मैनेजर योगेश पाण्डेय ने ग्रहण किया। कराटे में राष्टीय फलक पर नाम रोशन करने वाले 10 वर्षीय यश बाबा अमरेश कुमार पाण्डेय के पुत्र और वरिष्ठ पत्रकार एन डी देहाती के भतीजे है। आचार्य व्यास मिश्र स्मृति समिति ने देवरिया रत्न अवार्ड के लिए सिद्देश का चयन किया था। समिति के अध्यक्ष पवन मिश्र ने बताया कि सिद्धेश को देवरिया स्थित एस एस बी एल इंटर कॉलेज के समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य के लिए राज्य के कई व्यक्तियों को सम्मानित किया गया। सिद्धेश का चयन राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय प्रतियोगिता में उल्लेखनीय योगदान के लिए किया गया था। इस अवसर पर टाइगर्स मार्शल आर्ट के कोच जय सूद ने सिद्धेश के इस उपलब्धि पर बधाई दी है तथा केंद्रीय विद्यालय क्रमांक चार के अध्यापक को भी इस बालक पर गर्व है।  

मास्टर सिद्धेश पाण्डेय उर्फ़ यश बाबा की कुछ तस्वीरे 

« Older Entries