आना हे राजनीति में तो……………….

आना हे राजनीति में तो आ जाओ चाकरी करके। 
रात दिन सेवा करनी हे हमारी, भगवान  समझ के!! 
हम कहे दिन में रात तो , कहना पड़ेगा रात !
अगर ना  कहा तो छोड़ देंगे , हम तुम्हारा साथ!! 
साथ देंगे सोगात तुम्हारे , घोटालो का हाथ !
सोने नही देंगे तुम्हे, दिन और रात !!
“डराते हुए:-………………..”
सी बी आई हे हमारी , बचके कहा तुम जाओगे?
रात दिन सिर्फ , तुम पछताओगे !!
कुछ ही दिनों में तुम, सलाखों के पीछे नजर आओगे 
जेल में सलाखे कितनी? , ये भी नही गिनवायेंगे!
सिर्फ वहा हम , कुछ गेहू और कुछ बाजरा  पिसवाएँगे 
और उसी गेहू को एक दिन, गरीबो को खिलवाएंगे 
“दबाव डालते हुए:-……..” 
उनको डराएँगे , धमकाएंगे ।
और सन्देश यह दिलवाएँगे
“अगर रहना हे यहाँ जमके , तो रहना पड़ेगा हमसे डर के “
“करना सिर्फ हुजूरी  , आगे ना बढ़ना “
“अगर बढाया कदम तो, महंगा पड़ सकता हे जीना “

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s