रोडवेज बसों में लुट रहे मुसाफिर

परिवहन निगम लखनऊ से गोरखपुर आ रहे  इंडिया अगेन्स्ट करप्शन व वीएमडब्लू टीम का सक्रिय सदस्य मधुलेश पांडेय ने परिवहन निगम के शिकायत प्रकोष्ठ में दर्ज कराई शिकायत, फिर भी कार्रवाई की बजाय समझौते का किया गया प्रयास देवरिया डिपो की बस के परिचालक ने सादे कागज पर वसूला लखनऊ से गोरखपुर का किराया

उप्र राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों में मुसाफिर लुटते जा रहे हैं। सबकुछ जानते हुए भी निगम के आला अधिकारी प्रभारी कदम उठाने में अक्षम है। जागरूक मुसाफिर शिकायत भी दर्ज कराते हैं, लेकिन परिचालक के खिलाफ कार्रवाई का मामला ठंडे बस्ते में कैद हो जाता है। बीती रात लखनऊ से गोरखपुर आ रहे जागरूक मुसाफिर मधुलेश पांडेय के साथ भी इसी तरह की घटना हुई। परिचालक ने इलेक्ट्रानिक टिकट की जगह सादे कागज पर उनसे किराया वसूल लिया। बात यहीं खत्म नहीं होती, परिवहन निगम के शिकायत प्रकोष्ठ में शिकायत दर्ज कराने के बाद भी परिचालक के खिलाफ कार्रवाई की बजाय समझौते का प्रयास किया गया। अक्सर दिल्ली आदि लम्बी दूरी की बसों में इस तरह का मामला आम हो गया है। परिवहन निगम प्रबंधन अपनी माली हालत को सुदृढ़ करने में जहां नित नई योजना बनाने व उसके क्रियान्वयन में जुटा है, वहीं उसके परिचालक उसकी योजना का भट्ठा बैठाने में जुटे हैं। परिचालकों की अनियमितता पर रोक लगाने के लिए निगम प्रबंधन ने रोडवेज बसों में ईटीएम मशीन से इलेक्ट्रानिक टिकट बांटने की व्यवस्था लागू तो की है, लेकिन परिचालक मुसाफिरों को लुट रहे हैं। मशीन की खराबी का बहाना बनाकर परिचालक सादे कागज पर किराया वसूल कर अपनी जेब गरम करने में जुट गये हैं। बीती रात महानगर के सिंघड़िया मुहल्ला निवासी मधुलेश पांडेय के साथ ऐसा ही हुआ। गोरखपुर आने के लिए वह लखनऊ में देवरिया डिपो की बस ( यूपी 53 एटी-4074) में बैठे। परिचालक ने उन्हें एक सादे कागज पर लखनऊ से गोरखपुर का 189 रुपया किराया वसूल लिया। जागरूक मुसाफिर मधुलेश ने जब टिकट देखा तो हैरान रह गये। कागज पर किसी तरह का प्रिंट नहीं था। उन्होंने जब शिकायत दर्ज कराई तो परिचालक ने सफाई देते हुए कहा कि इलेक्ट्रानिक मशीन खराब है। ऐसे में पेन से लिखकर टिकट बनाना पड़ रहा है। इंडिया अगेन्स्ट करप्शन व वीएमडब्लू टीम का सक्रिय सदस्य होने के नाते मधुलेश ने इस अनियमितता पर चुप बैठना उचित नहीं समझा और उन्होंने तत्काल परिवहन निगम के शिकायत प्रकोष्ट के टेलीफोन नंबर-18001802877 पर शिकायत दर्ज कराई। शिकायत प्रकोष्ठ पर बैठे अधिकारी ने मधुलेश के मोबाईल पर परिचालक से वार्ता की। शिकायत प्रकोष्ठ के निर्देश पर मुसाफिर को 00116302 नं. का टिकट जारी किया गया, लेकिन इसमें भी खेल हो गया। टिकट बाराबंकी से गोरखपुर तक का ही था और उस पर 164 रुपये प्रिंट थे। जागरूक मुसाफिर ने फिर शिकायत प्रकोष्ठ को सूचित किया तो अधिकारी का कहना था कि बस बाराबंकी पहुंच चुकी है। इस लिए टिकट वहीं से जारी होगा। मुसाफिर का कहना था कि जब टिकट बाराबंकी से बना है तो लखनऊ- बाराबंकी का किराया उसे आपस मिलना चाहिए ! शिकायत प्रकोष्ठ ने गोलमोल जवाब देते हुए कहा कि महज 25 रुपये का सवाल है। छोड़िए शिकायत क्या करेंगे ? वहीं परिचालक ने भी कहा कि रास्ते में कई अधिकारी मिलते हैं, जिन्हें खुश करना पड़ता है। बहरहाल इस वाकये से यह साबित होता है कि निगम मुख्यालयस्तर पर भी शिकायत दर्ज कराने का कोई मतलब नहीं है। ऐसे हालात में शिकायत प्रकोष्ठ का औचित्य क्या बनता है ?

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s