भष्ट कैसे बना श्रेष्ठ

खर्च करके ही इन्‍सान कमाना सीखता है, और इसके लिऐ मेहनत जरूरी हैं जो देश और समाज दोनो के लिऐ आवश्‍यक हैं सरकार का काम बुनियादी आवश्‍यकताओ को सुचारू व सुनिश्चित करना हैं वोट बैंक के नाम पर सरकारी लंगर चलाना मक्‍कारी को जन्‍म देता हैं, आज जिस वेतन पर पिता कार्यमुक्‍त हो रहा हैं बेटा उसी वेतन पर नौकरी की शुरूवात कर रहा हैं

Yogesh

 आप चाहे जो कहें। पर भष्ट होना आज की तारीख में श्रेष्ठ होने से कमतर नहीं है। श्रेष्ठ होने का पैमाना होता है मगर भष्ट होने का कोई पैमाना नहीं होता है। आप कैसे भी। कहीं भी। किधर भी। भष्ट हो सकते हैं। कहीं कोई रोकटोक नहीं। समाज में जितनी जल्दी पहचान भष्ट और भष्टाचार को मिलती है, उतनी श्रेष्ठ को नहीं। श्रेष्ठ हटबचकर, साफसफाई के साथ जिंदगी को जीते हैं। भष्ट बेपरवाह और बिंदास होकर जिंदगी का मज़ा लेते हैं। श्रेष्ठ जेल जाने से भय खाता है। भष्ट खुलकर जेल जाता है। श्रेष्ठ के पांव होते हैं। भष्ट के पांव नहीं होते।
 दैनिक जागरण के दीपक जोशी जी अपने ब्लॉग पर  लिखते है की
पढ़ाई शुरु होने से लेकर पढ़ाई खत्म होने तक ,जो भी गणित पढ़ाई गई थी, उसमें सिर्फ यही पढ़ा था कि “दो धन दो चार होता है।”
यह सिर्फ हमनें ही नहीं सभी ने पढ़ा होगा। लेकिन यह दो+दो=चार में “भष्ट” कब जुड़ा पता ही नहीं चला ।
कहते है कि बूंद बूंद से मटका भरता है ….और शायद उसी तरह से यह भष्टाचार धीरे-धीरे पूरे समाज में भर चुका है।।
आज हमारा समाज इस भष्टाटचार के दलदल में इतना धंस चुका है कि हर वर्ग का इन्सान काफी हद तक इसकी चपेट में आ चुका है।
“भष्टाचार”, मैं इस शब्द कि व्याख्या तो नहीं कर पाऊँगा, पर मुझे लगता है कि यह एक ऐसी बिमारी है, जो आज एक छोटे से चाय के ढाबेवाले से लेकर किसी बड़ी कम्पनी के अधिकारी तक को लग(सर) चुकी है। हम यह नहीं कहते कि आज का हर इन्सान भष्ट है लेकिन जाने अनजाने में ही सही, पर वो इस भष्टाचारी समाज का हिस्सा बन चुका है।
************************************
योगेश पाण्डेय
************************************ 

अच्छा लगने पर अपने अमूल्य विचार मेल या कमेन्ट करे
धन्यवाद!
VMW Team (India’s New Invention) 

9 comments

  • इस नए और सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    Like

  • बेनामी

    shayad hami logo ne banayakam jaldi pura karane ke liye mej ke niche…..ab nahi kahuga.

    Like

  • बेनामी

    आप चाहे जो कहें। पर भष्ट होना आज की तारीख में श्रेष्ठ है।

    Like

  • बेनामी

    समाज में जितनी जल्दी पहचान भष्ट और भष्टाचार को मिलती है, उतनी श्रेष्ठ को नहीं।

    Like

  • कहते है कि बूंद बूंद से मटका भरता है ….और शायद उसी तरह से यह भष्टाचार धीरे-धीरे पूरे समाज में भर चुका है।।

    Like

  • बेनामी

    भ्रष्टाचार' तथा काला धन देश की सबसे बड़ी समस्या है | यह एक ऐसी समस्या है, जिसे हमने न चाहते हुये भी शासन-प्रणाली और जन-जीवन का एक अनिवार्य अंग मान लिया है | जिस देश में लोगों द्वारा चुने गये प्रतिनिधि ही लोगों का पैसा खाने के लिये तैयार बैठे हों, वहाँ किससे गुहार लगाईं जाए ?

    Like

  • sundar post

    Like

  • हाँ जी , यह भ्रष्टाचार तो घुन की तरह खाए जा रहा है जन -मानस की सोच को

    Like

  • बेनामी

    भष्ट बेपरवाह और बिंदास होकर जिंदगी का मज़ा लेते हैं

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s